मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

जकार्ता की यात्रा के दौरान विदेश मंत्री द्वारा प्रेस वक्तव्य

सितम्बर 05, 2019

महामहिम श्रीमती रेटनो मार्सुडी, विदेश मंत्री,
मीडिया के प्रतिष्ठित सदस्य,
देवियो और सज्जनों:

सुप्रभात


मैं, प्रारंभ में, अपने और मेरे प्रतिनिधिमंडल के गर्मजोशी से भरे आतिथ्य और शिष्टाचार के लिए मंत्री रेटनो मार्सुडी का शुक्रिया अदा करता हूँ । मैं जकार्ता में आकर वास्तव में बहुत खुश हूं। यह जकार्ता की मेरी पहली यात्रा है और वर्तमान पद पर यह आसियान देश की मेरी पहली द्विपक्षीय यात्रा है।

मैं हमारे लंबे ऐतिहासिक संबंधों के प्रति बहुत सचेत हूं और मंत्री रेटनो और मैं सहमत हैं कि ये हमारे लिए ताकत का स्रोत है, क्योंकि हम वास्तव में अपने समान रूप से मजबूत समकालीन संबंधों को गढ़ते हैं।

आज मंत्री जी के साथ मेरी बहुत ही सार्थक और ठोस चर्चा हुई। हमने द्विपक्षीय संबंधों पर विस्तार से चर्चा की, और कई क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों, राजनीतिक मामलों, सुरक्षा मामलों, आर्थिक मुद्दों पर चर्चा की और हमारी चर्चा का बड़ा संदर्भ मई 2018 में पीएम मोदी की यात्रा थी, जो हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए एक ऐतिहासिक घटना थी। हमारे दोनों नेताओं हमारे संबंधों को एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी के स्तर तक ले जाने का फैसला किया।

भारत और इंडोनेशिया करीबी समुद्री पड़ोसी देश हैं। हम वास्तव में अपने एक्ट ईस्ट और इंडो-पैसिफिक नीति के तहत इंडोनेशिया को एक महत्वपूर्ण भागीदार के रूप में महत्व देते हैं। इस वर्ष हम अपने राजनयिक संबंधों की स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ मना रहे हैं और हमने अपने जुड़ाव के सात दशकों में एक लंबा सफर तय किया है। हमारे नेताओं ने इन संबंधों को, समान सांस्कृतिक और सभ्यतागत संबंधों के आधार पर परिपोषित किया है। हमारे दोनों देशों ने संयुक्त रूप से औपनिवेशिक शासन के खिलाफ संघर्ष किया था और दक्षिण-दक्षिण सहयोग की नींव रखी थी। हम लगभग एक ही समय के आसपास स्वतंत्र देश बने। पिछले महीने, हमने अपनी स्वतंत्रता की 73 वीं और 74 वीं वर्षगांठ मनाई। हम युवा, लोकतांत्रिक राष्ट्र हैं, हम दुनिया के दो सबसे बड़े बहु-धार्मिक, बहु-जातीय समाज हैं और हमारे दोनों देशों में हाल ही में हुए चुनावों में, हमारे देशों के लोगों ने हमारे नेताओं को विशाल जनादेश दिया है ।

अब हमारी चर्चा का विषय था कि हमारे जैसे दो देशों के बीच क्या होना चाहिए, वे विषय बहुत स्पष्ट थे, वे बहुत स्वतंत्र थे, वे बहुत सहज थे और हमने विभिन्न प्रकार के कदमों पर विचारों का आदान-प्रदान किया जिनमें हमें अपने रिश्तों को और भी आगे ले जाने की आवश्यकता है।

मैंने ‘इंडो-पैसिफिक पर आसियान आउटलुक' को अपनाने के लिए मंत्री रेटनो को भी बधाई दी। इंडोनेशिया, आसियान में सबसे बड़े देश और सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में, ईएएस के भीतर, एक रूपरेखा और कार्रवाई योग्य एजेंडे में एक दृष्टिकोण विकसित करने के लिए चर्चाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

पिछले साल प्रधान मंत्री की यात्रा के दौरान इंडो-पैसिफिक में समुद्री सहयोग की हमारी साझा दृष्टि, एक मान्यता है कि भारत और इंडोनेशिया, इस क्षेत्र में दो प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को, क्षमता विकसित करने और इस क्षेत्र के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए तालमेल विकसित करने की आवश्यकता है। हमें ईएएस के भीतर इंडो-पैसिफिक अवधारणा पर एक साथ काम करने में रुचि है और मैं मंत्री को रेखांकित करता हूं कि हम निश्चित रूप से आसियान केन्द्रीयता को इंडो-पैसिफिक के लिए हमारे दृष्टिकोण की एक प्रमुख विशेषता के रूप में देखते हैं।

सागर की हमारी अवधारणा - " क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास" इंडोनेशिया की समुद्री फुलक्रम नीति के साथ अच्छी तरह से फिट बैठता है। भारत और इंडोनेशिया के बीच कनेक्टिविटी में सुधार, विशेष रूप से अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और इंडोनेशिया के आचे प्रांत के बीच, इसलिए, दोनों देशों के लिए एक प्रमुख रणनीतिक प्राथमिकता है । अंडमान - आचे पर दोनों देशों द्वारा गठित संयुक्त कार्य बल के प्रमुख इस सप्ताह के शुरू में मिले और सन्दर्भ की शर्तों पर एक आम समझ कायम की । जैसा कि मंत्री ने उल्लेख किया है, हम अपेक्षा करते हैं कि कार्य बल, यदि पहले नहीं मिल पायें, तो नवंबर में मिलेंगे । दोनों क्षेत्रों में स्पष्ट रूप से अपार विकास क्षमता है। हम इंडोनेशिया, मलेशिया, थाईलैंड-ग्रोथ ट्राइंगल (IMT-GT) में पहले डायलॉग पार्टनर और मंत्री के रूप में शामिल होकर खुश हैं, मैं वास्तव में इस संबंध में इंडोनेशिया के निमंत्रण की सराहना करता हूं। हमें आईएमटी-जीटी के साथ पूर्वी भारत के उप-क्षेत्रों की अर्थव्यवस्थाओं के आगे और एकीकरण की उम्मीद है।

लोकतंत्रों के रूप में, जो दोनों आतंकवाद के खतरे का सामना करते हैं, आज की हमारी बैठक में, हमने सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में आतंकवाद की हमारी कड़ी निंदा को स्पष्ट रूप से दोहराया। हमने इस वैश्विक खतरे से निपटने के किसी भी चुनिंदा दृष्टिकोण पर अपना कड़ा विरोध व्यक्त किया, और जैसा कि आप जानते हैं कि भारत सभी देशों से आतंकवाद को राज्य प्रायोजन प्रदान करने से रोकने और अपने क्षेत्रों को आतंकवादी सुरक्षित ठिकानों की स्थापना के लिए इस्तेमाल होने से रोकने के लिए कहता है। हमने दोनों देशों की क्षेत्रीय अखंडता और एकता में अपने साझा हितों की भी पुष्टि की।

हमने भारत और इंडोनेशिया के बीच पूंजी, व्यापार, लोगों और विचारों के प्रवाह को मजबूत करने वाली एक मजबूत आर्थिक और विकास साझेदारी बनाने पर भी सहमति व्यक्त की और सीआईआई प्रतिनिधि कार्यालय के उद्घाटन का स्वागत किया, जिसके लिए पिछले साल नेताओं की बैठक के बीच सहमति हुई थी।

हम 50 बिलियन अमेरिकी डॉलर के व्यापार लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए माल और सेवाओं दोनों में अधिक से अधिक बाजार पहुंच प्रदान करके एक संतुलित और स्थायी व्यापार के लिए मिलकर काम करने पर सहमत हुए। और हम सहमत हुए हैं कि दोनों देश उस संदर्भ में एक-दूसरे की जरूरतों के प्रति उत्तरदायी होंगे।

जैसा कि पिछले साल प्रधान मंत्री ने घोषणा की थी, हमने इंडोनेशियाई नागरिकों के लिए मुफ्त ई-वीजा प्रारंभ किया और इसके परिणामस्वरूप भारत में आने वाले इंडोनेशियाई लोगों की संख्या बहुत अधिक हो गई है। इंडोनेशिया में भारतीय पर्यटकों का आगमन भी बढ़ रहा है। प्रत्यक्ष हवाई संपर्क शुरू करने के साथ, हम लोगों के लोगों से निकट संपर्क को बढ़ावा देने में सक्षम होंगे।

हम वैश्विक मुद्दों पर अपनी सहभागिता को और मजबूत बनाने और बहुपक्षीय संगठनों में अधिक निकट सहयोग करने पर भी सहमत हुए। बहुलतावाद और सभ्यता के सामंजस्य के सामान्य मूल्यों वाले दो लोकतांत्रिक देशों के रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि हम वैश्विक चुनौतियों का सामना करने में साथ खड़े हों। मैं इस वर्ष के अंत में संयुक्त राष्ट्र में आपदा रोधी अवसंरचना के गठबंधन के शुभारंभ पर हमारे साथ इंडोनेशिया के शामिल होने की आशा करता हूं।

आज की मेरी बैठक में, हम संबंधों को और मजबूत करने और अपने दोनों देशों के लोगों के बीच आपसी सद्भाव को बढ़ाने पर सहमत हुए।

मंत्री जी, जल्दी ही, इस वर्ष के आखिर में, 6ठी संयुक्त आयोग की बैठक के लिए भारत में मैं आपका स्वागत करने की आशा करता हूँ ।

मैं एक बार फिर, वास्तव में, आपके उदार आतिथ्य और बहुत गर्मजोशी से स्वागत के लिए आपका धन्यवाद करना चाहता हूं।

धन्यवाद!

जकार्ता
सितंबर 05, 2019

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code