मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

बहुपक्षवाद के लिए गठबंधन पर वर्चूअल मंत्रिस्तरीय बैठक में विदेश मंत्री का संबोधन

जून 26, 2020

महामहिम, मंत्री ले ड्रियन, मंत्री मास, डॉ. टेड्रोस;
सहयोगी मंत्रियों,
मित्रों

पच्चीस साल पहले, एक वैश्विक युद्ध के अंत में, हमारे पूर्वजों ने "बड़ी स्वतंत्रता में सामाजिक प्रगति और जीवन के बेहतर मानक" जिसकी खोज में, "सभी लोगों की आर्थिक और सामाजिक उन्नति के संवर्धन के लिए अंतर्राष्ट्रीय मशीनरी" का उपयोग करने को बढ़ावा देने के लिए अपना दृढ़ संकल्प व्यक्त किया।

मैं यह सोचना पसंद करता हूं कि संयुक्त राष्ट्र के चार्टर की प्रस्तावना के इन शब्दों में, हम बहुपक्षवाद के लिए इस गठबंधन के उद्देश्य की एक प्रतिध्वनि सुनते हैं। आज , जैसा कि 75 साल पहले था, दुनिया एक निर्णायक क्षण में खड़ी थी।

फिर, युद्ध और अति-राष्ट्रवाद के दोहरे संकटों ने सभ्यता को कगार पर पहुंचा दिया। 1945 के बाद भी, हमें अभी भी अनुचित चुनौतियों का सामना करना पड़ा: उपनिवेशवाद, नस्लीय विभाजन, नए उभरते देशों में गृहयुद्ध, युद्ध-ग्रस्त समाजों का पुनर्निर्माण। इन सभी को अच्छी तरह से संबोधित किया गया था यदि पूरी तरह से नहीं, इसके बावजूद कि वह ध्रुवीकृत भू-राजनीति का युग था।

आज, एक बार फिर, हम परिवर्तनकारी मोड़ पर खड़े हैं। एक महामारी ने हमारी वैश्वीकृत आर्थिक प्रणाली को तबाह कर दिया है; 400,000 से अधिक लोगों की जान लेने के अलावा, इसने मौलिक रूप से हमारे जीने, काम करने, यात्रा करने और वास्तव में एक दूसरे से संबंधित होने के तरीके को प्रभावित किया है। हालांकि यह कहना जल्दबाजी होगी कि कोरोनावायरस ने हमारे जीवन के तरीके को हमेशा के लिए बदल दिया है, इसने दूसरों की उपस्थिति में मानवता की सहज सुविधा को कम कर दिया है। और मानव अंतःक्रिया का संदेह फर्जी समाचारों, गलत सूचनाओं और लक्षित विघटन के द्वारा, अधिक से अधिक बार, भड़काया जाता है।

आज व्यापक रूप से ये घटनाएं हैं कि हम वास्तव में एक वायरल महामारी के दोतरफा हमले का सामना कर रहे हैं, और गलत सूचना वायरल हो रही है। दूसरे शब्दों में, यह एक स्वास्थ्य संकट के साथ-साथ सूचना संक्रमण (Infodemic) का भी युग है।

दोनों चुनौतियों को दूर करने का तरीका समान है। हमारे लिए आवश्यक है:

सबसे पहले, वैज्ञानिक दृष्टिकोण में अपने विश्वास को मजबूत करें। इसका मतलब है, हमें राजनीति को अलग रखना चाहिए और तथ्यों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए - चाहे वह वर्तमान कोरोनोवायरस महामारी के कारणों और चालकों के विवादास्पद विश्लेषण का प्रयास हो या यह आकलन करने के लिए कि भविष्य की महामारी की तैयारी में सुधार के लिए हमारे बहुपक्षीय स्वास्थ्य तंत्र में किन बदलावों को लागू करने की आवश्यकता है। पिछले महीने विश्व स्वास्थ्य सभा में अपनाया गया संकल्प इस महामारी के प्रति हमारी प्रतिक्रिया का आकलन करने और भविष्य के लिए बेहतर तैयारी करने के लिए उन सबक लेने के लिए तथ्यों और विज्ञान का उपयोग करने का एक अवसर है। डब्ल्यूएचओ कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में, भारत इन लक्ष्यों की दिशा में काम करने के लिए तैयार है।

दूसरा, हमें अपने विश्वास को सार्थक और समान भागीदारी में पुनर्स्थापित करने की आवश्यकता है। विश्वास, साझेदारी और सहयोग लोगों, समाजों और देशों को विशेषकर संकटों के दौरान एक साथ जोड़ते हैं, खासकर जब फर्जी समाचार और रोग अलगाववाद और एकतरफावाद को बढ़ाते हैं। इस संदर्भ में, भारत को संयुक्त राष्ट्र में COVID-19 के संदर्भ में चल रहे सूचना संक्रमण (Infodemic) पर एक वक्तव्य प्रस्तुत करने वाले क्रॉस-क्षेत्रीय समूह का हिस्सा बनकर प्रसन्नता हुई। जैसा कि आप जानते हैं, इसे 130 से अधिक देशों और पर्यवेक्षकों से व्यापक राजनीतिक समर्थन मिला। हमारे गठबंधन को भी इस संबंध में अपने कार्य समूह के माध्यम से सूचना संक्रमण (infodemic) का मुकाबला करने के लिए ठोस कदम उठाना जारी रखना चाहिए।

तीसरा, यह एक अनुभव सिद्ध तथ्य है कि हर प्रक्रिया और संस्था को अपने समय की जरूरतों को पूरा करने के लिए विकसित होना चाहिए। कोई भी संस्था, कितनी भी महत्वपूर्ण हो, अपनी नींव ड़ालने के क्षण में स्थिर रह सकती है। जिस तरह हमें कमियों को दूर करने और हल करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए निर्धारित किए गए पुनरुत्पादन और विनियामक मापदंडों पर विचार करने की आवश्यकता है, उसी तरह हमें भी बहुपक्षीय संस्थाओं की निस्संकोच जांच और सुधार की आवश्यकता है, ताकि वे हमारे समय के उद्देश्य से निर्मित हों और इस सदी का प्रतिनिधित्व करें।

यही कारण है कि हम ‘सुधारे हुए बहुपक्षवाद’ के लिए आवाज उठाना जारी रखते हैं ’- एक वह जो उस समय के लिए प्रासंगिक है जिसमें हम रहते हैं, न कि जब इस वास्तुकला का निर्माण हुआ था। हमारा गठबंधन एक गतिशील बहुपक्षवाद के लिए खड़ा होना चाहिए; मौजूदा संरचनाओं के एक उद्देश्यपूर्ण सुधार के लिए, जिनको इस जटिल और अनिश्चित समय में भी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सेवा करना जारी रखना चाहिए।

ध्यान देने के लिए आप सभी का धन्यवाद।
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code