मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

बांग्लादेश को 10 ब्रॉड गेज डीजल इंजनों को सौंपे जाने के वर्चुअल फ्लैग-ऑफ समारोह में विदेश मंत्री का भाषण

जुलाई 27, 2020

महामहिम मोहम्मद नुरुल इस्लाम सुजन, माननीय रेल मंत्री, बांग्लादेश सरकार
महामहिम डॉ ए.के. अब्दुल मोमेन, माननीय विदेश मंत्री, बांग्लादेश सरकार
श्री पीयूष गोयल, माननीय रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, भारत सरकार
श्री सुरेश अंगड़ी जी, माननीय रेल राज्य मंत्री,
अध्यक्ष रेलवे बोर्ड श्री वी. के. यादव जी,
विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रृंगला जी,
सचिव, रेलवे, बांग्लादेश सरकार,
हमारे उच्चायुक्त,सांसद,वरिष्ठ अधिकारीगण, देवियों और सज्जनों,


आज बांग्लादेश को 10 बड़ी लाइन इंजन सौंपने के अवसर पर अपने सहयोगी रेल मंत्री के साथ जुड़कर मुझे खुशी हो रही है। इसके साथ, हम पिछले वर्ष अक्तूबर में प्रधान मंत्री शेख हसीना की भारत यात्रा के दौरान की गई एक महत्वपूर्ण प्रतिबद्धता को पूरा करने में सक्षम हुए हैं। विदेश मंत्रालय और रेल मंत्रालय 'पहले पड़ोसी' की नीति को लागू करने में बहुत प्रभावी भागीदार रहे हैं और यह बांग्लादेश के मामले में सुव्यक्त हुआ है। दोनों देश प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और शेख हसीना की प्रगतिशील दूरदर्शिता द्वारा मार्गदर्शित 'सोनाली अध्याय' संबंध को जारी रख रहे हैं।

दुनिया के बहुत कम देशों ने ऐसे घनिष्ठ संबंध साझा किए हैं जैसा हमलोगों के बीच है । हमारी साझेदारी आज अच्छे पड़ोसी संबंधों के लिए क्षेत्र में एक रोल मॉडल के रूप में सामने आती है।

आपके करीबी दोस्त और पड़ोसी होने के नाते, इस परिवर्तनकारी विकास का साक्षी बनकर हमें सचमुच खुशी हो रही है l

हमने पिछले कुछ वर्षों में प्रभावशाली वृद्धि दर देखी है। सभी सामाजिक-आर्थिक सूचकों में आपकी उपलब्धियों ने नए मानदंड स्थापित किए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने मुजिब वर्ष समारोह के उद्घाटन के अवसर पर बंगबंधु को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए, बंगबंधु द्वारा यथा परिकल्पित बांग्लादेश को सोनार बांग्ला के रूप में प्रतिष्ठित करने के प्रति बांग्लादेश के लोगों के समर्पण और वहाँ के नेतृत्व की प्रशंसा की थी।

महामहिम, कोविड-19 महामारी के आक्रमण ने विशेष रूप से विकासात्मक लक्ष्यों को पूरा करने में दुनिया के सामने नई चुनौतियाँ खड़ी की हैं। भारत इस कठिन समय में बांग्लादेश के लोगों के साथ सहयोग करने के लिए तैयार है।

इस महामारी ने हमें अपनी रसद आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधानों को कम करने के उद्देश्य से अभिनव समाधानों के साथ आने के लिए मजबूर किया है। हमारे समयोचित प्रयासों को धन्यवाद, दोनों देशों के व्यापारिक समुदायों ने विनिर्माण उद्योगों के लिए वस्तुओं और कच्चे माल के परिवहन के लिए माल गाड़ियों का उपयोग शुरू कर दिया है। रेल के माध्यम से माल की आवाजाही से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित हुई है और, जैसा कि रेल मंत्री ने नोट किया है, वे विशेष रूप से रमज़ान के पवित्र महीने में भी निर्बाध रूप से जारी रही,जबकि भू-सीमाओं के माध्यम से व्यापार को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा l

मैं इस अवसर पर हमारे रेल मंत्री को उनके व्यक्तिगत सहयोग और पहल के लिए धन्यवाद देता हूँ।

मुझे यह जानकर खुशी हुई है कि चालू कोविड महामारी ने हमारे समग्र सहयोग की गति को धीमा नहीं किया है। मई 2020 में अंतर्देशीय जल पारगमन और व्यापार पर प्रोटोकॉल के द्वितीय परिशिष्ट पर हस्ताक्षर होने से प्रोटोकॉल मार्गों की संख्या 8 से बढ़कर 10 हो गई है तथा दो विस्तारित पड़ाव पत्तन के अतिरिक्त पड़ाव पत्तन की संख्या 6 से बढ़कर 11 हो गई है।

चट्टग्राम होकर कोलकाता से अगरतला तक कंटेनर कार्गो का सफल पूर्व-परीक्षण वास्तव में एक ऐतिहासिक विकास है क्योंकि इससे न केवल हमारे पारंपरिक जलमार्ग संयोजन सुदृढ़ होते हैं बल्कि पारस्परिक आर्थिक लाभ भी होता है।

हमारे रेल मंत्री ने हाल ही में पार्सल और कंटेनर ट्रेन सेवाएं प्रारंभ किए जाने की बात कहीl मुझे भी यह जानकर खुशी हुई हैl संयोजकता के इन किफायती, समय-प्रभावी और पर्यावरण के अनुकूल साधनों से, चाहे वे रेल, अंतर्देशीय जलमार्ग या तटीय हों, हमारी आपूर्ति श्रृंखला मजबूत होगी और व्यापार के नए अवसर खुलेंगे।

वर्ष 2019 में बांग्लादेश से भारत को किया जाने वाला निर्यात 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर का स्तर पार कर गया है- जो पिछले वर्ष की तुलना में 43% की उल्लेखनीय वृद्धि दर्शाता हैl मैं बांग्लादेश के व्यापारिक समुदाय को भारत के साथ अपना व्यापार और बढ़ाने के लिए आमंत्रित करता हूँ।

भारत बांग्लादेश का एक प्रतिबद्ध विकास भागीदार बना हुआ है। हमारे द्वारा दी गई लगभग 10 बिलियन अमेरिकी डॉलर की विशिष्ट रियायती ऋण सहायता भारत द्वारा किसी भी देश को दी जाने वाली ऋण सहायता में सबसे बड़ी है। इन परियोजनाओं से बांग्लादेश के बुनियादी ढाँचे के विकास में मदद मिलेगी, जो इसकी अर्थव्यवस्था को अगले स्तर पर ले जाने की पूर्वापेक्षा है। हमें कई चालू परियोजनाओं में तेजी लाने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है।

महामहिम, समृद्धि और विकास में मित्र के रूप में, हमने साथ मिलकर चुनौतियों का भी सामना किया है। इसलिए, मेरा दृढ़ विश्वास है कि हमारी साझेदारी समृद्ध और शांतिपूर्ण दक्षिण एशिया के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यह इस ऐतिहासिक मुजीब वर्ष में बंगबंधु की दूरदर्शिता को सही मायने में श्रद्धांजलि होगी।

मैं आज इस कार्यक्रम से जुड़े सभी लोगों को बधाई देता हूँ और हम आशा करते हैं कि विशेष रूप से इस ऐतिहासिक वर्ष और अगले वर्ष बांग्लादेश की मुक्ति तथा हमारे राजनयिक संबंधों की स्थापना के 50 वें वर्ष तक इस तरह की और कई मत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल होंगीl यह साझेदारी सही मायने में अनुकरणीय हो और हमारी दोस्ती के नियतकालिक बंधन को और मजबूत बनाए।

धन्यवादl

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code