मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

भारत और पोलैंड के विदेश मंत्रियों का संयुक्त वक्तव्य

अगस्त 29, 2019

1. पोलैंड गणराज्य के विदेश मंत्री, जाकेक सापुतोविक्ज (विदेश मंत्री) के आमंत्रण पर, भारत गणराज्य के विदेश मंत्री, सुब्रह्मण्यम जयशंकर (विदेश मंत्री) ने 28 और 29 अगस्त 2019 को पोलैंड की आधिकारिक यात्रा की। यह यात्रा पोलैंड और भारत के बीच द्विपक्षीय संबंधों की स्थापना की 65वीं वर्षगांठ की पृष्ठभूमि में और सितंबर 2019 में वारसॉ और नई दिल्ली के बीच एलओटी पोलिश एयरलाइंस द्वारा संचालित सीधे उड़ान संपर्क की आधिकारिक शुरुआत से पहले हुई।

2. विदेश मंत्री प्रो. सापुतोविक्ज और विदेश मंत्री डॉ. जयशंकर ने 29 अगस्त 2019 को भेंट की और दो मजबूत लोकतंत्रों की दीर्घकालिक मित्रता की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में आधिकारिक वार्ता की। पोलैंड के विदेश मंत्री ने लंबे अंतराल के बाद पोलैंड की यात्रा करने वाले पहले भारतीय विदेश मंत्री का स्वागत किया। उन्होंने एक प्रमुख क्षेत्रीय शक्ति, जी-20 और संयुक्त राष्ट्र के एक सक्रिय और महत्वपूर्ण सदस्य के साथ-साथ दक्षिण एशिया में पोलैंड के प्रमुख भागीदार के रूप में भारत की भूमिका को रेखांकित किया। प्रो. सापुतोविक्ज ने भारत की स्वतंत्रता की 72वीं वर्षगांठ पर विदेश मंत्री डॉ.जयशंकर को बधाई दी। पोलैंड के विदेश मंत्री ने हाल ही में भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर गंभीर संवेदना व्यक्त की।

3. डॉ.जयशंकर ने यूरोपीय संघ के महत्वपूर्ण सदस्य और मध्य एवं पूर्वी यूरोप के नेता के रूप में पोलैंड की भूमिका को रेखांकित किया। इसे ध्यान में रखते हुए, उन्होंने मध्य यूरोप क्षेत्र में अधिक सक्रिय रूप से संलग्न होने की भारत की तत्परता व्यक्त की, जिसका समग्र यूरोपीय संघ-भारत सहयोग पर सकारात्मक प्रभाव होगा। उन्होंने वीसग्रेड प्रारूप में भारत की पोलैंड से जुड़ने की इच्छा भी व्यक्त की।

4. आधिकारिक वार्ता के समय दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय राजनीतिक सहयोग के साथ-साथ अर्थव्यवस्था, शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में कई विषयों पर चर्चा की। वे इस बात से सहमत थे कि उच्चतम स्तर की यात्राओं का आदान-प्रदान द्विपक्षीय सहयोग को एक मजबूत प्रोत्साहन देगा, जिसमें काफी संभावनाओं का अभी तक दोहन नहीं हुआ है और यात्राओं के द्विपक्षीय आदान-प्रदान को बढ़ाने की उनकी इच्छा को रेखांकित किया। पोलैंड के पक्ष ने भारत के राष्ट्रपति द्वारा पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेजेज डूडा को भारत आने का आमंत्रण देने का स्वागत किया।

5. मंत्रियों ने विभिन्न क्षेत्रों में शांति और सुरक्षा बनाए रखने के महत्व पर सहमति व्यक्त की और भारत-प्रशांत और पश्चिम एशिया पर चर्चा की। पोलैंड के विदेश मंत्री ने भारत के विदेश मंत्री को फरवरी 2019 में वारसॉ मिनिस्ट्रियल के परिणामों के बारे में बताया। विदेश मंत्री प्रो. सापुतोविक्ज ने आतंकवाद के सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में, विशेष रूप से सीमा पार के आतंकवाद के साथ-साथ सबसे जरूरी सुरक्षा समस्याओं: डब्ल्यूएमडी प्रसार, समुद्री और विमानन सुरक्षा, साइबर सुरक्षा, ऊर्जा सुरक्षा, मानवीय मुद्दे, शरणार्थी और मानव अधिकार से निपटने के वैश्विक प्रयासों का समर्थन करने के लिए पोलैंड की प्रतिबद्धता व्यक्त की। विदेश मंत्री ने आतंकवाद का मुकाबला करने पर पोलैंड के स्पष्ट दृष्टिकोण का स्वागत किया।

6. विदेश मंत्रियों ने वैश्विक स्थिरता बनाए रखने और वैश्विक चुनौतियों से निपटने में महत्वपूर्ण कारकों के रूप में एक प्रभावी बहुपक्षीय प्रणाली और नियम-आधारित विश्व व्यवस्था के महत्व को दोहराया। पोलैंड के पक्ष ने, भारत द्वारा 2018-2019 की अस्थायी सीट के लिए पोलैंड की उम्मीदवारी का समर्थन करने की सराहना की और 2021-22 की अस्थायी सीट के लिए भारत की उम्मीदवारी के लिए समर्थन व्यक्त किया।

7. विदेश मंत्री प्रो. सापुतोविक्ज ने 10 दिसंबर 2018 को भारत के संबंध में यूरोपीय संघ की रणनीति पर परिषद के निष्कर्ष का उल्लेख करते हुए यूरोपीय संघ और भारत के बीच सामरिक भागीदारी के महत्व को दोहराया जिससे द्विपक्षीय सहयोग को हर प्रकार से विकसित किया जा सके। उन्होंने दोनों पक्षों के लाभ के लिए यूरोपीय संघ-भारत की कार्य सूची को सक्रिय रूप देने के लिए पोलैंड की प्रतिबद्धता की भी पुष्टि की। भारत के विदेश मंत्री ने यूरोपीय संघ के साझेदार के रूप में पोलैंड की महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की।

8. मंत्रियों के बीच आधिकारिक वार्ता के बाद एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई।

9. इस यात्रा के समय, डॉ. जयशंकर ने पोलैंड के प्रधानमंत्री मैतुसज मोरवीकी और उप प्रधानमंत्री श्री पियोट ग्लिंस्की से भी भेंट की।

10. विदेश मंत्री डॉ. जयशंकर ने अपने और अपने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों के उत्साहपूर्ण स्वागत और पोलैंड में उनके प्रवास के समय उनके उदार आतिथ्य के लिए विदेश मंत्री प्रो. जाकेक सापुतोविक्ज को धन्यवाद दिया।

वारसॉ
29 अगस्त, 2019

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code