विकास भागीदारी प्रशासन विकास भागीदारी प्रशासन

विकास भागीदारी प्रशासन

पिछले कुछ वर्षों में, भारत की विकास सहायता अनेक देशों तक पहुंचनी शुरू हो गई है और इसके फलस्वरूप, विदेश मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जा रही परियोजनाओं की संख्या काफी बढ़ गई है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए, विदेश मंत्रालय में जनवरी, 2012 में विकास भागीदारी प्रशासन की स्थापना की गई थी ताकि अवधारणा, शुरूआत, निष्पादन और कार्य पूरा होने के स्तरों के जरिए भारत की सहायता प्राप्त परियोजनाओं को कारगर ढंग से हैंडल किया जा सके।

जाफ़ना क्षेत्र में पुनर्निर्मित अस्पताल जो युद्ध के दौरान ध्वस्त हो गया था, के उद्घाटन के दौरान विदेश मंत्री श्री एस एम कृष्णा और श्रीलंका के आर्थिक विकास मंत्री श्री बासिल राजपक्षे (18 जनवरी, 2012) । भारत सरकार ने अपने विकास भागीदारी कार्यक्रम के अंतर्गत उत्तरी श्रीलंका की जनता को 22 मिलियन अमरीकी डॉलर मूल्य के चिकित्सा उपकरण दान में दिए। भारत की विकास भागीदारी, भागीदार देशों द्वारा अभिनिर्धारित आवश्यकताओं पर आधारित है और विदेश मंत्रालय का यह प्रयास रहता है कि तकनीकी एवं वित्तीय रूप से जितना संभव हो सके, भागीदार देशों से प्राप्त अधिक से अधिक अनुरोधों को समाहित किया जाए। विकास भागीदारी प्रशासन ने परियोजना कार्यान्वयन के सभी स्तरों पर तेजी लाने के लिए आंतरिक, विशिष्ट तकनीकी, कानूनी एवं वित्तीय कौशल का सृजन प्रारंभ कर दिया है। विकास भागीदारी प्रशासन के तीन प्रभाग हैं। इस समय विकास भागीदारी प्रशासन-। परियोजना मूल्यांकन एवं ऋण सहायता से संबंधित कार्य करता है; विकास भागीदारी प्रशासन-।। क्षमता निर्माण स्कीमों, आपदा राहत, भारतीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग कार्यक्रम से संबंधित कार्य करता है तथा विकास भागीदारी प्रशासन-।।। परियोजना कार्यान्वयन से संबंधित कार्य करता है।

विदेश मंत्रालय में विकास प्रशासन भागीदारी जैसे-जैसे अपने अधिदेश को पूरा करने की ओर आगे बढ़ रही है, यह उम्मीद की जाती है कि भागीदार देशों के निकट सहयोग एवं मदद से, अवधारणा से लेकर शुरूआत, निष्पादन और कार्य पूरा होने तक सभी स्तरों पर हमारी सहायता प्राप्त सभी परियोजनाओं में कारगर एवं कुशल हैंडलिंग से परियोजनाओं के कार्यान्वयन में कुशलता आएगी।

विकास भागीदारी प्रशासन और उसकी कार्य-प्रणाली के बारे में और अधिक जानकारी शामिल करने के लिए इस पृष्ठ का विकास किया जाएगा।

भारतीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग कार्यक्रम के बारे में और जानकारी के लिए कृपया itec.mea.gov.in External website that opens in a new window देखें।