विशिष्ट व्याख्यान विशिष्ट व्याख्यान

भारत की सॉफ्ट पावर डिप्लोमेसी

  • Distinguished Lectures Detail

    By: एच.एच.एस. विश्वनाथन
    Venue: आइआईएम, तिरुचिरापल्ली
    Date: सितम्बर 04, 2019

प्रारंभ में, मैं छात्रों और इस प्रतिष्ठित संस्थान के संकाय के साथ अंतर-अभिनय का विशेषाधिकार देने के लिए आईआईएम, तिरुचिरापल्ली को धन्यवाद देना चाहूंगा। मैं लंबे समय के बाद इस ऐतिहासिक शहर में आकर प्रसन्‍न हूं। प्रतिष्ठित व्याख्यान श्रृंखला के अंतर्गत मैं भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के बाह्य प्रचार विभाग के प्रति भी अपनी विशिष्ट कृतज्ञता व्यक्त करता हूं, आइए मैं, आपको इस श्रृंखला के बारे में एक मंतव्‍य देता हूं। सरकारें औपचारिक और अनौपचारिक चैनलों के माध्यम से विदेशों में अपने विदेश नीति मंतव्‍यों को पेश करती रहती हैं। अनौपचारिक चैनलों में से एक सार्वजनिक कूटनीति है, जो हाल के दिनों में बहुत लोकप्रिय हो गई है। हम थोड़ी देर में सार्वजनिक राजनयिक के बारे में बात करेंगे। हालांकि, भारत सरकार ने महसूस किया कि विदेशी दर्शकों के साथ संपर्क हेतु संचार के अलावा, उन्हें हमारे अपने लोगों के साथ संपर्क रखना महत्वपूर्ण है। भारत जैसे जीवंत लोकतंत्र में, लोगों को न केवल विवरण और विदेश नीति के बारे में जानने का अधिकार है, बल्कि इसे बनाने में भी योगदान देना चाहिए। यह इस सिद्धांत से प्रवाहित होता है कि "विदेश नीति केवल राजनयिकों के लिए छोड़ दिया जाना के लिए बहुत गंभीर मामला है।" प्रतिष्ठित व्याख्यान श्रृंखला का उद्देश्य सेवानिवृत्त राजनयिकों के साथ शैक्षणिक संस्थानों में बातचीत करना है। मैं आप सभी के साथ एक उत्तेजक बातचीत करने के लिए उत्सुक हूं।

सॉफ्ट पावर क्या है?

अंतर्राष्‍ट्रीय संबंधों में पावर को संबंधपरक शब्दों में परिभाषित किया गया है, क्योंकि अभिनेता A की क्षमता अभिनेता B के व्यवहार को प्रभावित करना चाहती है। (निकोलस ब्लरेल 2012)। कहने का तात्पर्य यह है कि कोई पूर्ण शक्ति नहीं है। परंपरागत रूप से, सैन्य और आर्थिक शक्तियों को प्रमुख कारक माना जाता था। हालाँकि, कुछ अन्य अमूर्त पहलुओं को अतीत में भी कई रणनीतिक विचारकों द्वारा महत्व दिया गया है। सॉफ्ट पॉवर शब्द का प्रयोग सबसे पहले प्रख्यात आईआर विद्वान जोसेफ ने अपनी पुस्तक "बाउंड टू लीड: द चेंजिंग नेचर ऑफ अमेरिकन पावर" में किया था। इस पुस्तक में उन्होंने शक्ति के तीन आयाम चिह्नित किए; सैन्य बल द्वारा शासन, आर्थिक प्रोत्‍साहन देकर प्रभावित करना और अंत में राष्‍ट्र की अपील पर इसकी संस्कृति और मूल्यों के आधार पर अन्य राष्‍ट्रों की सह-चुनाव करने की क्षमता। तर्क यह है कि अन्य राष्‍ट्र आपकी अनुकूल धारणा के कारण अपनी वरीयताओं को संशोधित करते हैं। वे आपकी कथा और आपके कथानक को पसंद करते हैं।

व्यक्तिगत रूप से, मैं कभी भी सॉफ्ट पावर की इस अवधारणा का बहुत बड़ा प्रशंसक नहीं रहा, भले ही मैं जोसफ न्‍ये को एक प्रमुख आईआर विशेषज्ञ मानता हूं। समस्या अवधारणा की परिभाषा में निहित है। यह बहुत गलत है, कम से कम कहने के लिए। क्‍या सॉफ्ट पावर एक उत्पाद या एक प्रक्रिया है? मुझे एक उदाहरण देने दें। प्राय: सैन्य शक्ति को कठिन माना जाता है और इसलिए इसे सॉफ्ट पावर के संदर्भ में देखा जाता है। हालाँकि, जब इसका उपयोग शांति स्थापना या आपदा राहत के लिए किया जाता है, तो यह एक मानवीय और स्वागत योग्य गतिविधि है। इसी प्रकार किसी की संस्कृति का प्रक्षेपण अच्छा माना जाता है; हालांकि, छोटे देशों में किसी बड़े और ऐतिहासिक राष्ट्र की संस्कृति के आक्रामक प्रक्षेपण, विशेष रूप से पड़ोस में, सांस्कृतिक साम्राज्यवाद के रूप में व्याख्या की जा सकती है। इसलिए, महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई साधनों का कैसे उपयोग करता है। सॉफ्ट पावर अंततः एक प्रक्रिया बन जाती है और उत्पाद नहीं। तीन कारक मुख्य रूप से किसी देश की विदेश नीति को निर्धारित करते हैं: उसका भूगोल, इतिहास और क्षमताएं। (डेविड एम मालोन, पर्सपेक्‍टिवस्)। भूगोल प्रदत्‍त है। जैसा कि वे कहते हैं, एक देश अपने पड़ोसियों का चयन नहीं कर सकता है। इसलिए, किसी भी राष्ट्र के लिए पड़ोस नीति महत्वपूर्ण हो जाती है। आम तौर पर, पड़ोसियों के साथ जुड़ाव और संघर्ष अधिक स्पष्ट होते हैं। इतिहास देशों के अवधारणाओं, आउटलुक और विजन को निर्धारित करता है। वे दूसरों के साथ कुछ संबंध भी निर्धारित करते हैं। क्षमताएं वह हैं जो एक राष्ट्र एक अवधि में प्राप्त करता है। ये सैन्य, आर्थिक या तकनीकी क्षेत्रों में हो सकती हैं। नई क्षमताओं के साथ, किसी देश का विदेश नीति दृष्टिकोण पनपता होता है। पड़ोस के बाहर नए हितों का पनपना होता है। "विस्तारित पड़ोस" और "सामरिक हित" जैसे शब्द अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में आम उपयोग के शब्‍द बन गए हैं।

”सॉफ्ट पावर” के संदर्भ में, क्षमताएं प्रासंगिक हो जाती हैं। आप अपने हितों की रक्षा कैसे करते हैं? आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले साधन क्या हैं? उम्र से अधिक सामरिक विचारकों ने ये प्रश्‍न पूछे हैं। उनके अर्थशास्त्र में हमारा अपना कौटिल्य, छः स्ट्रैटेगेम्स या शदगुण्य और चार उपयाज़ या वाद्ययंत्रों का उपयोग करने की बात करता है। ये हैं साम, दाम, भेद और दंड। इनमें से, पहली दो प्राथमिकताएं शांतिपूर्ण साधनों और प्रोत्साहन के लिए हैं।

सबसे मौलिक स्तर पर सॉफ्ट पावर लोगों का दिल और दिमाग जीतने के बारे में है। इसलिए, लोगों को केंद्रित होना होगा। सरकार प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने से इतर नहीं कर सकती। मैं आपको दो उदाहरण देता हूं। पिछली शताब्दी में, भारत के मंतव्‍य के केवल दो उदाहरण थे, जो वैश्विक आबादी के एक बड़े हिस्से के बीच बहुत लोकप्रिय हो रहे थे। पहला महात्मा गांधी की अहिंसक असहयोग की अवधारणा के साथ हमारे स्वतंत्रता संग्राम के दौरान था। दूसरा 1960 और हिप्पी आंदोलन के दौरान था जब पश्चिम में कई लोग योग, ध्यान, भारतीय शास्त्रीय संगीत और भारतीय आध्यात्मिकता की ओर आकर्षित हुए। इन दोनों उदाहरणों में, सरकार का उनके प्रचार से बहुत कम लेना-देना था। वास्तव में, पहले मामले में, उस समय की सरकार ब्रिटिश थी जिन्होंने इस अवधारणा को खारिज करने की पूरी कोशिश की थी। दूसरे मामले में भी, भारत सरकार विशेष रूप से उत्साहजनक नहीं थी।

बहरहाल, आजकल सभी सरकारें अपने देशों से सकारात्मक विचारों को प्रसार करने की सुविधा प्रदान कर रही हैं। इसमें कला, संस्कृति, संगीत, दर्शन, खेल और व्यंजन भी शामिल होंगे। भारत इस नियम का अपवाद नहीं है। वास्तव में, भारत सरकार को पता है कि उसके पास इन संसाधनों की बहुतायत है। तो, हमारे हितों को आगे बढ़ाने के लिए उनका प्रयोग क्‍यों न किया जाएं। यहां क्रियात्‍मक शब्द "कपट" है। विशिष्ट लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सॉफ्ट पावर का उपयोग करना विरोधाभास है और यह प्रति-उत्पादक हो सकता है। आदर्श रूप से, सॉफ्ट पावर का प्रसार हमारे हितों के संदर्भ के बिना तटस्थ होना चाहिए।

क्या सॉफ्ट पावर स्‍वयं विदेश नीति के लक्ष्यों को प्राप्त कर सकती है?

यह स्पष्ट है कि लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सॉफ्ट पावर एक आवश्यक शर्त हो सकती है, लेकिन यह पर्याप्त स्थिति नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि विदेश नीति के परिणाम एकतरफा निर्णय नहीं हैं। उनकी सफलता अन्य राष्ट्रों पर निर्भर करती है। उनकी रुचियां इस बात पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं कि हम कितने सफल हैं। यदि हमारे लक्ष्य उनके राष्ट्रीय हितों के विरोध में हैं, तो वे हमारी संस्कृति और सभ्यता को पसंद करने के बावजूद हमारी रेखा को पार नहीं करेगें। यहीं पर "हार्ड पॉवर" के कुछ पहलुओं का उपयोग किया जाएगा। यह स्वतः बल का उपयोग नहीं करता है। अनुनय के अन्य साधन भी हैं। फिर भी, इस तथ्य को नकार नहीं जा सकता कि सॉफ्टेवयर डिप्लोमेसी में अन्य साधनों को "सुग्राह्य हो जाते है"। यदि कोई देश हमारे मूल्यों और संस्कृति की सराहना करता है, तो प्रतिकूल स्थिति से बचने के लिए इस पर कार्रवाई की जा सकती है। इसलिए, निर्णय लेने के अवसरों के दौरान, यह अनुकूल हो सकती है बशर्ते कि यह उसके राष्ट्रीय हितों के विरूद्ध न हो।

सॉफ्ट पावर में भारत की ताकत और कमजोरियां क्या हैं?

यह आकलन करते समय, किसी को उस उत्पाद और प्रक्रिया के पहलुओं से नहीं चूकना चाहिए जिस पर हमने पहले चर्चा की है। दोनों महत्‍वपूर्ण हैं।

सबसे महत्वपूर्ण कारक भारत का लंबा इतिहास, संस्कृति और सभ्यता है। ये दुनिया भर से भारत के बुद्धिजीवियों और आम लोगों को आकर्षित करते हैं। यदि वे आकर्षक नहीं होते, तो अनेक व्‍यक्‍ति इंडोलॉजिस्ट के रूप में काम नहीं कर रहे होते। 1980 के दशक में, प्रसिद्ध थियेटर व्यक्तित्व पीटर ब्रुक ने महाभारत का निर्माण एक सार्वभौमिक कलाकार के साथ किया था। प्रभाव असरदार था। महान भारतीय महाकाव्य रातों-रात में दुनिया के सुदूर कोनों में लोकप्रिय हो गया।

भारत भाग्‍यशाली है कि इसमें विश्‍व के सभी प्रमुख धर्म है। चार यहां पनपे हैं: हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म और सिख धर्म। चार बाहर से आए: पारसी धर्म, यहूदी धर्म, ईसाई धर्म और इस्लाम। यह धार्मिक रूप से विदेशियों को भारत आने के लिए प्रोत्साहित करता है। खुम्बेला का अंतर्राष्ट्रीय मीडिया कवरेज भारत के लिए अन्य देशों की प्रशंसा का प्रमाण है और इसने सहस्राब्दियों से अपनी मान्यताओं और परंपराओं को बनाए रखा है।

भारत में धार्मिक पर्यटन हमारे बाहरी संबंधों का एक प्रमुख कारक है। हिंदू धार्मिक स्थलों जैसे वाराणसी, बद्रीनाथ, केदारनाथ, वैष्णो देवी, अमरनाथ, तिरुपति, सबरीमाला, तंजावूर, मदुरै आदि के अलावा, अन्य धर्मों के लोगों के लिए भी बड़ी संख्या में धर्म स्थल हैं। भारत बौद्ध तीर्थयात्रियों के लिए सबसे पसंदीदा स्‍थान है। यह आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़े अधिकांश स्थान भारत में हैं। पूरे वर्ष में, आसियान देशों, जापान, श्रीलंका और म्यांमार से बोधगया और नालंदा के लिए आगंतुकों का एक सतत प्रवाह रहता है। भारत में ईसाई धर्म और यहूदी धर्म भी बहुत पुराने हैं और दक्षिण भारत में ऐतिहासिक चर्च और सिनेगॉग हैं। इस्लाम की बात करें तो मोइनुद्दीन चिश्ती और निजामुद्दीन औलिया जैसे सूफी संतों के दरगाह हजारों भक्तों को आकर्षित करते हैं।

भारत के धार्मिक पहलुओं से जुड़े योग और ध्यान हैं, जो अधिकांश देशों में घरेलू शब्द बन गए हैं। इनके स्वास्थ्य पहलुओं पर शोध किया जा रहा है और चिकित्सकों और डॉक्टरों को अच्छी तरह से जाना जाता है। भारत सरकार ने कुछ वर्ष पहले संयुक्त राष्ट्र द्वारा 21 जून को वैश्विक योग दिवस घोषित करने का अच्छा निर्णय लिया।

समान रूप से महत्वपूर्ण हैं भारत का संगीत, नृत्य, कला और वास्तुकला। भले ही ताजमहल भारत का सबसे प्रसिद्ध स्मारक है, लेकिन विदेशी पर्यटक पूरे भारत में हजारों अन्य ऐतिहासिक और पुरातत्व स्थलों की खोज कर रहे हैं। इन यात्राओं का निश्चित रूप से हमारे देश के प्रति उनके रवैये पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। हमारी संस्कृति का प्रचार कोई नई बात नहीं है। पहले के समय में, हम इसे "सांस्कृतिक कूटनीति" कहते थे। विदेश मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद न केवल विदेशों में हमारी संस्कृति के प्रचार-प्रसार का काम कर रही है, बल्कि सांस्‍कृतिक विनिमय को प्रोत्‍साहित करने के लिए भारत में अन्य संस्कृतियों को प्रचार-प्रसार भी कर रही है।

भारत के लिए बॉलीवुड को एक श्रेयस्‍कर सॉफ्ट पॉवर साधन के रूप में पेश किया गया है। कभी-कभी इस पहलू की अतिशयोक्ति होती है। यह सच है कि बॉलीवुड फिल्में कई देशों के लोगों के बीच लोकप्रिय हैं। हालांकि, यह भी उतना ही सच है कि बॉलीवुड अपने समकक्ष प्रतियोगियों के उच्च स्तर के समकक्ष नहीं है। अब दशकों से, भारतीय सिनेमा की कान्स, बर्लिन, वेनिस या कार्लोवी वैरी जैसे किसी भी प्रसिद्ध फिल्म समारोह में प्रमुखता से पहचान नहीं बनी है। आइए, इसके आकार को देखें। हॉलीवुड की दुनिया भर में बॉक्स ऑफिस प्राप्‍तियां और अंतर्राष्‍ट्रीय प्रसार बॉलीवुड की तुलना में कहीं अधिक है। उत्तरार्द्ध की सफलता अनिवासी भारतीयों (एनआरआई), भारतीय मूल के लोगों (पीआईओ) और कुछ भारत प्रेमियों के सीमित "इको चैम्बर" में है। एक का उल्लेख यहां भारतीय क्षेत्रीय सिनेमा पर बॉलीवुड के प्रतिकूल प्रभावों का भी है, जो न्‍यून है। सभी ने कहा है कि, बॉलीवुड और विशेष रूप से इसके संगीत और नृत्य का आकर्षण बहुत अधिक श्रेय का हकदार है।

भारतीय व्‍यंजन विदेशियों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। इसकी विविधता और परिष्कार के लिए सार्वभौमिक अपील है। दुनिया में कम से कम दो या तीन भारतीय रेस्तरां के बिना एक भी बड़ा शहर नहीं है। वे सभी बड़ा व्यवसाय करते हैं। मजाक में कहा जाता है कि ब्रिटेन का राष्ट्रीय व्यंजन आज सीटीएम या चिकन टिक्का मसाला है।

इंडियन डायस्पोरा अर्थात् एनआरआई और पीआईओ इसकी सॉफ्ट पावर को प्रोजेक्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दोनों मिलकर बीस मिलियन हैं। वे सभी महाद्वीपों में फैले हुए हैं और पिछले दो दशकों में समृद्ध, प्रसिद्ध और प्रभावशाली बन गए हैं। उन्होंने न केवल हमारी संस्कृति को फैलाने में मदद की बल्कि अवसरों पर भी हमारी विदेश नीति के लक्ष्यों को बढ़ावा देने में योगदान दिया। इसका सबसे अच्छा उदाहरण इस सदी के पहले दशक के शुरुआती वर्षों में भारत-अमेरिका परमाणु समझौते की चर्चा के दौरान था। संयुक्त राज्य अमेरिका में कई प्रभावशाली भारतीयों ने कांग्रेसियों और सीनेटरों की पैरवी करने और उन्हें हमारे दृष्टिकोण में लाने के लिए उल्लेखनीय काम किया। भारतीय प्रवासी एक वास्तविक संपत्ति बनते जा रहे हैं और उनमें से अधिक से अधिक विभिन्न देशों में अपने क्षेत्रों में सफलता प्राप्त कर रहे हैं। सॉफ्ट पावर का एक महत्वपूर्ण पहलू जिस पर अक्सर चर्चा नहीं की जाती है वह उदाहरण के आधार पर नेतृत्व करने की शक्ति है। महात्मा गांधी ऐसा कर सकते थे। अन्‍य देश हमारा सम्मान और हमारी प्रशंसा तभी करेंगे, जब हमारी कथनी और करनी में अंतर नहीं होगा। वे हमें हमारे वादों के लिए हमारी प्रतिबद्धताओं के द्वारा निर्णय लेगें। यह विकासशील देशों में विकास साझेदारी परियोजनाओं के मामले में विशेष रूप से प्रासंगिक है। अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में, किसी के बयानों की विश्वसनीयता से अधिक महत्वपूर्ण कुछ नहीं है।

वर्तमान में भारत एक महत्वपूर्ण उभरती हुई शक्ति की चुनौतियों का सामना कर रहा है। इसलिए, इसे अनेक भूमिकाएँ निभानी होंगी। हमारे हित विकासशील दुनिया के साथ और प्रमुख शक्तियों के साथ हैं। कभी-कभी, अन्य लोग महसूस कर सकते हैं कि हम खरगोशों के साथ चल रहे हैं और शिकार के साथ शिकार कर रहे हैं। यह एक नाजुक संतुलन क्रिया है जिसका भारत को लगातार प्रदर्शन करना है। विदेशी सरकारों को समझाना आसान है, क्योंकि वे एक ही व्यवसाय में हैं और अन्य सरकारों की मजबूरियों को समझ सकते हैं। समस्या उन देशों के आम नागरिकों को समझाने की है। यहीं से हमारे आख्यान की अभिव्यक्ति महत्वपूर्ण हो जाती है। क्या हमारी कहानी विश्वसनीय है? क्या यह दिलचस्प है? क्या इससे सम्मान बढ़ता है?

इन मुद्दों से निपटने के लिए सार्वजनिक कूटनीति नया साधन है। मंतव्‍य यह कि नागरिकों से सीधे सरल शब्दों में संवाद किया जाए। इन्हें जारगनों से रहित होना चाहिए और भ्रामक प्रचार प्रसार को समाप्‍त करना होगा। पहले ये पारंपरिक मीडिया और व्याख्यान / सेमिनार के माध्यम से किया जाता था। सोशल मीडिया के आगमन ने सार्वजनिक कूटनीति का चेहरा काफी बदल दिया है। आज, यहां तक कि राष्ट्रीय नेता भी अपने विचारों को जानने के लिए ट्वीट का सहारा ले रहे हैं। इसमें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काफी अग्रसर हैं और सरकार में सभी अधिकारियों को जनता के साथ संचार के लिए सोशल मीडिया का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

सॉफ्ट पावर "इमेज पॉलिशिंग" नहीं है। यह इससे बहुत अधिक है। वास्तविकता में सुधार के बिना छवि को चमकाने वाली छवि प्रतिपक्ष हो सकती है।

दूसरों ने भी हमें समझने और उनकी सराहना करने की अपनी क्षमता से न्याय किया। खुलेपन, विनम्रता और सहानुभूति कूटनीति में एक लंबा रास्ता तय करती है। मैं फ्रांस में जन्मे अमेरिकी इतिहासकार जैक्स बरज़ुन का उदाहरण देना चाहूंगा जिन्‍होनें कहा कि "स्‍वयं को इस प्रकार देखना जैसाकि दूसरे आपके बारे में सोचते है।; हालांकि, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में यह और भी अधिक उपयोगी है यदि, आप दूसरों को वैसा ही देख सकें जैसा वे स्वयं देखते हैं। "वास्तविक संचार तभी हो सकता है जब आप उन्हें उनके परिप्रेक्ष्य में देखेंगे। दिलों और दिमागों को जीतने का एक तरीका यह नहीं है कि हम हर समय अपनी सफलताओं और उपलब्धियों को पेश करें, बल्कि दूसरों को भी मनाने का प्रयास करें। प्रसिद्ध फिल्म समारोह, जहां दुनिया भर की फिल्में कान, बर्लिन या वेनिस जैसे समान स्तर पर प्रतिस्पर्धा करती हैं, मेजबानों के लिए सद्भाव का एक बड़ा साध्‍य है। ओलंपिक जैसे अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों की मेजबानी के लिए देश क्यों लड़ते हैं? यह सार्वभौमिक प्रतिभाओं की सराहना दिखाने का एक तरीका है। भारत ने इस संबंध में अपनी गतिविधियों में वृद्धि की है। भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद् का उद्देश्य न केवल विदेशों में भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देना है बल्कि भारतीयों को अन्य संस्कृतियों से अवगत कराना भी है। यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि यह बिना किसी संवेदना या संरक्षण के किया जाता है।

समाप्त करते हुए, मैं कहूंगा कि भले ही सॉफ्ट पावर की अवधारणा सटीक नहीं है, जोसेफ नी ने अच्छी तरह से देशों की विदेशी नीतियों में इस महत्वपूर्ण पहलू को चिह्नित करने का कार्य किया। आज दुनिया में ऐसा कोई देश नहीं है, जो इस कारक को महत्व नहीं देता है। अपने विशाल संसाधनों के कारण भारत इस मामले में एक अच्छी स्थिति में है जो देश के अन्य लोगों के प्रति आकर्षण बढ़ाने में काम आता है। इस प्रयास में शिक्षाविद और बुद्धिजीवी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

**********************

संदर्भ
जोसेफ न्‍ये : बाउंड टू लीड ; द चेंजिग नेचर ऑफ अमेरिकन पॉवर
जोसेफ न्‍ये : सॉफ्ट पॉवर : द सक्सेस टु वर्ल्ड पॉलिटिक्स
ब्लारेल निकोलस : इंडिया : द नेक्‍स्‍ट सुपर पावर? इंडियाज सॉफ्ट पावर फ्रोम पोटेंशियल टू रियल्‍टी?
रोहन मुखर्जी : द फॉल्‍स प्रोमिस ऑफ इंडियाज सॉफ्ट पॉवर
ध्रुव जयशंकर इंडिया राइजिंग : सॉफ्ट पावर एंड द वर्ल्‍डस लार्जेस्‍ट डेमोक्रेसी