विशिष्ट व्याख्यान विशिष्ट व्याख्यान

अपने राष्ट्रीय उद्देश्यों के अनुसरण में भारत-प्रशांत क्षेत्र में भारत की समुद्री कूटनीति

  • Distinguished Lectures Detail

    By: राजदूत (सेवानिवृत्त) योगेंद्र कुमार
    Venue: भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, धारवाड़
    Date: अक्तूबर 18, 2019

अभिवादन। सार्वजनिक-निजी भागीदारी मॉडल पर आधारित और राष्ट्रीय महत्व के संस्थान के रूप में मान्यता प्राप्त - भारत की शैक्षिक और तकनीकी क्रांति के मामले में अग्रणीय इस प्रतिष्ठित संस्थान में आकर मै गौरवान्‍वित हूं। मैं निदेशक, प्रोफेसर कवि महेश और विशेष रूप से, प्रो. चन्नाप्पा अक्की, कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख को इस वार्ता को मूल रूप देने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं, मैं इस विशेषाधिकार के लिए अपने पूर्व मंत्रालय, विदेश मंत्रालय और इसके विदेश प्रचार प्रभाग को भी धन्यवाद देना चाहता हूं। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि मैं अपने सबसे प्रतिभाशाली युवाओं के साथ जुड़ने के लिए उत्सुक हूं।

विषय का दायरा इस प्रकार है: मोटे तौर पर किसी भी देश के लिए बोलना, राष्ट्रीय उद्देश्यों के लिए अपने नागरिकों के लिए एक अनुकूल बाह्य परिवेश सुरक्षित करना है ताकि वे अपनी सभ्यता के मूल्यों के साथ अपनी प्राकृतिक प्रतिभा और संभावित अनुकूलता कर सकें; इसके लिए, न केवल बाहरी सुरक्षा अनिवार्य आवश्यकता है, बल्कि उन संबंधों को सुविधाजनक बनाने वाले अंतर्राष्‍ट्रीय संबंधों का पोषण भी आवश्‍यक है, चाहे वे आर्थिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक या पेशेवर हों। किसी देश के अंतर्राष्‍ट्रीय संबंधों के प्रबंधन के संदर्भ में - बल्कि जटिल कार्यों की खोज - कूटनीति का आधार है।

भारत के लिए, यह कार्य विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण हैं। भारत इन चुनौतियों के पूर्ण परिवेश के संपर्क में है, जो राजनीतिक अस्थिरता, सीमा पार आतंकवाद, अवैध प्रवास और सीमा पार-राष्ट्रीय अपराध, परमाणु सशस्त्र पड़ोसियों से जुड़े सैन्य तनाव और जलवायु परिवर्तन के संपूर्ण विषय से लेकर एक दुष्‍कर पड़ोस है। दक्षिण एशियाई मामलों में सक्रिय बाहरी बड़ी शक्ति के हित और हस्तक्षेप के कारण, भारत को वैश्विक स्तर पर चल रहे शक्ति संतुलन में अपने क्षेत्रीय और व्यापक अंतर्राष्ट्रीय लाभ उठाने हैं; इसमें अपने पड़ोसियों के साथ विवेकपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करना शामिल है, जिनमें से अधिकांश के साथ यह एक प्राकृतिक सीमा साझा नहीं करता है। एक सकारात्मक पक्ष पर, इसे अपने द्विपक्षीय और बहुपक्षीय संबंधों का निर्माण इस प्रकार करना है, ताकि यह अपने नागरिकों को आज की वैश्विक अर्थव्यवस्था में अधिकतम लाभ प्रदान कर सके, साथ ही साथ, उनकी सुरक्षा कर सकें। चूंकि, यह क्षेत्र और वैश्विक स्तर पर अपने विस्तारित हितों को आगे बढ़ाता है, इसलिए इसे तेजी से अप्रत्याशित और अस्थिर वैश्विक स्थिति में फुर्तीला होना चाहिए।

7500 कि. मी. के विशाल समुद्र तट वाले देश के रूप में, जिसमें 1200 द्वीप हैं, और लगभग 2,000,000 वर्ग किमी का एक विशेष आर्थिक क्षेत्र है, भारत का समुद्री इंटरफ़ेस अपने सामरिक हितों का एक महत्वपूर्ण कारक है; महाभारत में इसे जम्बूद्वीप -जामुन का द्वीप (भारतीय ब्लैकबेरी) वृक्ष कहा गया है। वर्ष 1991 में शीत युद्ध की समाप्ति के बाद से भारत के क्षेत्रीय और वैश्विक कूटनीति के समुद्री आयाम ने वैश्वीकरण की शुरुआत के साथ और भी अधिक धैर्य ग्रहण किया है, क्योंकि समुद्री वाणिज्य इस प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण घटक बन गया है। इसका तात्‍पर्य केवल महासागरों की सामान्य स्थिति की ओर ही नहीं है, बल्कि संकरे समुद्री समुद्र तटों पर संचार और समुद्री यातायात की स्वतंत्रता, संचार की समुद्री रेखाओं की सुरक्षा और सुरक्षा, समुद्री क्षेत्रों के संसाधनों का अवैध शोषण, समुद्रों से सुरक्षा की स्थिति, बड़ी और छोटी शक्तियों के बीच नौसैनिक प्रतिद्वंद्विता, और शासन तंत्र की प्रभावकारिता और जलवायु परिवर्तन के नकारात्मक प्रभाव, समुद्री संसाधनों के सतत उपयोग और महासागरों के समग्र स्वास्थ्य जैसी व्यापक चुनौतियां शामिल हैं

• भारत-प्रशांत की समुद्री भू-राजनीति का विकास। वैश्विक सामरिक और राजनयिक संवाद, अनिवार्य रूप से, उन लोगों से उत्पन्न खतरों के प्रबंधन के लिए और साथ ही साथ इसके लिए सक्षम देशों के आर्थिक विकास के लिए उनके संसाधनों के दोहन के लिए समुद्री जल के शासन के चारों ओर घूमते हैं; खतरों की प्रकृति, अवसरों के शोषण में बाधा, हाल के दशकों में 'पारंपरिक' से, हार्ड-कोर पावर असंतुलन पर आधारित, 'गैर-पारंपरिक', जैसेकि जलवायु परिवर्तन, समुद्री डकैती और अन्य ट्रांस-नेशनल अपराध अवैध फिशिंग आदि में विस्तार हुआ है। जबकि महासागरों के उपयोग के विषय में अनेक अंतर्राष्ट्रीय कानून है, चुनौतियों के इस पूरे परिवेश से निपटने के लिए एक समुद्री शासन प्रणाली के निर्माण का वास्तविक कार्य, वास्तव में, शामिल देशों के सामरिक हितों का एक कार्य है। और, यह वह स्‍थान है जहाँ भू-राजनीति पनपती है।

‘भारत-प्रशांत'का विकसित भू-राजनीतिक निर्माण। हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के दो महासागरों की भौगोलिक स्थिति के संदर्भ में अलग-अलग भू-राजनीतिक निर्माण हुए हैं। और, भावी खोज का मुद्दा इस प्रकार के निर्माण में शासन तंत्र का है।

भारतीय और प्रशांत महासागर औपचारिक रूप से, अंतर्राष्ट्रीय हाइड्रोग्राफिक संगठन दुनिया के विभिन्न महासागरों और समुद्रों की भौगोलिक सीमाओं को परिभाषित करता है। हालांकि, अलग-अलग महासागरों और समुद्रों में आने वाली शासन संरचनाएं, इसमें शामिल देशों के बीच हितों और शक्ति संबंधों पर निर्भर करती हैं। हाल के समय में अखिल-हिंद महासागर या अखिल-प्रशांत महासागर संरचनाएं नहीं हुई हैं क्योंकि एक विशेष समय में अंतर्राष्‍ट्रीय शक्ति का खेल चल रहा है। इसके अलावा, जो भी संरचनाएं सामने आई हैं, वे एक विशिष्ट आवश्यकता के परिप्रेक्ष्‍य में सामना करने के लिए तैयार की गई हैं। हमारे वर्तमान खतरों के विशाल परिवेश को पूरा करने के प्रयोजनों के लिए - साथ ही साथ अवसरों - इन दो महासागरों में अधिकांश संरचनाएं बहुत कम हुई हैं, जो स्वयं, दोनों ही प्रचलित भू-राजनीति के साथ-साथ अपेक्षित निगरानी क्षमता का एक कार्य है। उनमें से कई के लिए समय-क्षितिज को कम करने की परिस्थितियां हैं। इस प्रकार की संरचनाएं बनाने की चुनौती संतुलन-के-शक्ति संबंधों को बदलने, बड़ी शक्तियों के बीच सामरिक अविश्वास, राज्य की नाजुकता, जलवायु परिवर्तन के शमन लक्ष्यों के बारे में समय सीमा, वित्तीय और संस्थागत क्षमताओं की कमी आदि के कारण है।

एशिया-प्रशांत का भू-राजनीतिक निर्माण। कुछ वर्ष पूर्व तक जो परिचित अभिव्यक्ति थी, वह 'एशिया-प्रशांत' की थी। यह अमेरिकी आख्यान से लिया गया है जहां एशिया को क्षेत्र के रूप में वर्णित किया गया है, जिसमें भूमि द्रव्यमान भी शामिल है, जिसमें दक्षिण-पूर्व एशिया और पूर्वी एशिया शामिल हैं, जिसमें जापान और चीन शामिल हैं। प्रशांत महासागर के साथ संयुक्त, इस पूरे भू-राजनीतिक निर्माण का प्रतिनिधित्व किया गया, विशेष रूप से शीत युद्ध की अवधि के दौरान, अमेरिकी नेतृत्व वाली सुरक्षा वास्तुकला में, शुरू में सोवियत संघ और शीत-युद्ध के बाद, चीन शामिल थे। हब-एंड-स्पोक कॉन्फ़िगरेशन पर काम करना, यह अमेरिकी क्षेत्रों पर आधारित था, जिसमें इस क्षेत्र में अन्य देशों के साथ गठबंधन संबंधों द्वारा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड सहित तीन 'कॉम्पैक्ट' प्रशांत द्वीप देशों (पलाऊ, माइक्रोनेशिया और मार्शल आइलैंड्स) शामिल हैं, साथ ही साथ जापान और दक्षिण कोरिया में इसकी प्रमुख सैन्य तैनाती भी है। शीत-युद्ध के बाद, दक्षिण-पूर्व एशियाई क्षेत्र में अमेरिकी रुचि का अभाव था, हालांकि सुदूर पूर्व के संबंध में इसका बल बरकरार था। यह इस दशक के शुरुआती वर्षों में है कि अमेरिका ने एशिया में इसे धुरि कहा’- जिसे बाद में पुनर्संतुलन’ कहा - की अवधारणा दक्षिण अमेरिकी सागर में संतुलन की स्थिति पर ध्यान देने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा की परिकल्‍पना थी। यह कहा जा सकता है कि हिंद महासागर में अमेरिका का ध्यान, विशेष रूप से शीत युद्ध के दौरान, लेकिन इसके बाद भी, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद का राजनीतिक भूमि-आधारित सोवियत सेनाओं के दबाव में अरब प्रायद्वीप में अपने नौसेना और सशस्त्र बलों की तैनाती के माध्यम से इस तरह के एक बल मुद्रा को समनुरूप करना था, ।

'भारत-प्रशांत' का भू-राजनीतिक निर्माण। दक्षिण चीन सागर में अमेरिका की रुचि की कमी के दौरान, भू-राजनीतिक परिस्थितियों में एक महत्वपूर्ण बदलाव आया। चीन की बढ़ती आर्थिक और सैन्य शक्ति, विशेष रूप से 2008 के वैश्विक आर्थिक और वित्तीय संकट के बाद, इस क्षेत्र में प्रकट हुई, न केवल चीनी अर्थव्यवस्था के साथ इसके अधिक आर्थिक एकीकरण के संदर्भ में, बल्कि सैन्य तनाव में भी क्षेत्रीय तनाव और नकारात्मक रूप से प्रकट हुई। आसियान के सामंजस्य पर प्रभाव, जो हाल ही में सत्ता के रिक्त स्थान को भरने के लिए एक संगठन के रूप में, शीत-युद्ध के बाद उभरा था। इस परिस्थिति ने हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की बढ़ती उपस्थिति के साथ-साथ किसी भी महत्वपूर्ण अखिल-हिंद महासागर संगठन की अनुपस्थिति में शक्ति संतुलन को बाधित करने की क्षमता पैदा की। भारत की बढ़ती अंतर्राष्‍ट्रीय भूमिका, इसके आर्थिक उदारीकरण के बाद और आर्थिक और राजनीतिक संबंधों का विस्तार करते हुए, अपने रणनीतिक हितों में भी प्रकट हुई, जैसाकि पूर्ववर्ती 'पूर्व की ओर देखो नीति' में है, जो अब हमारे अधीन 'एक्ट ईस्ट पॉलिसी' का स्‍थान प्राप्‍त कर चुका है। विभिन्न शक्तियों द्वारा व्यक्त किया गया प्रस्ताव, यह है कि एक महासागर में सामरिक विकास दूसरे में विकास को प्रभावित करता है; इस प्रस्ताव में, समुद्र के पानी और अन्य निर्माणों के विपरीत भूमि द्रव्यमान नहीं है। यह प्रस्ताव, हालांकि, कुछ संबंधित मुद्दों की ओर है जिस पर विभिन्न भू राजनीतिक दृष्टिकोण हैं और इसके चारों ओर अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति की समझ हैं।

भारतीय हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के भौगोलिक क्षेत्रों को कैसे परिभाषित किया जाना है? हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के बीच भूराजनीतिक सांठगांठ की ठोस अभिव्यक्तियाँ क्या हैं?

इस भू-राजनीतिक सांठगांठ के नकारात्मक प्रभावों को शामिल करने के लिए किस प्रकार की संस्थागत संरचना के बारे में सोचा जा सकता है?

• 'भारत-प्रशांत' पर विभिन्‍न भू-राजनैतिक दृष्टिकोण। जैसाकि पहले कहा गया है, यह भू-राजनीतिक निर्माण जापानी प्रधानमंत्री अबे (2007) के भाषण के समय से भारतीय संसद में है, जहां उन्होंने दो महासागरों के बारे में बात की थी "समुद्र के गतिशील युग्मन स्वतंत्रता और समृद्धि की बारे में"। इस सिक्के का पहला औपचारिक उपयोग 2017 में वियतनाम में हाल ही में अैपेक शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा किया गया था, और 2018 में यूएस भारत-प्रशांत कमांड, या यूएसपीओपीएसीओएम के रूप में पूर्व अमेरिकी नौसेना के प्रशांत कमान का नामकरण करना था। अमेरिकी चालों के परिणामस्वरूप, इस अभिव्यक्ति ने एक नई भू राजनीतिक वास्तविकता को पनपाया है और इसके परिणामस्वरूप, अन्य हितधारकों से नीतिगत प्रतिक्रियाएं मिली हैं। फिर भी, 'भारत-प्रशांत' की अभिव्यक्ति की अलग-अलग व्याख्याओं ने एक अद्वितीय भू-राजनीतिक गतिशीलता शुरू कर दी है।

भारत में अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, नीदरलैंड और यूएन के बीच 2004 के एशियाई सुनामी के प्रत्‍युतर में, पहले भी उत्पन्न हुए सामरिक रुझानों की निरंतरता के रूप में, इस विकास को एक निश्चित समन्वय में रखा गया था। इसने भारतीय नौसेना को अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करने का अवसर दिया; 1992 से शुरू हुई भारत-अमेरिकी नौसैनिक अभ्यासों की श्रृंखला में बाद के बदलाव भी इस संदर्भ में महत्त्व रखते हैं। भारतीय भागीदारी, आसन्न जल में सामरिक संतुलन में अपने भूराजनीतिक हितों के विस्तार के एक समारोह के रूप में, अपने बदलते सामरिक दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करती है जो चीन के साथ अपने व्यापक संबंधों पर भी लागू होती है।

अमेरिकी परिप्रेक्ष्य। अमेरिका के लिए, अभिव्यक्ति 'भारत-प्रशांत' यूएसपीओपीएसीओएम के उत्‍तरदायित्‍व सहित अंतिम पड़ाव है जो अमेरिका के पश्चिमी प्रशांत तट से लेकर प्रायद्वीपीय भारत के पश्चिम तक काल्पनिक भारत-पाकिस्तान समुद्री सीमा रेखा के साथ फैला है। अमेरिकी टिप्पणीकार और अधिकारी इस क्षेत्र को ‘हॉलीवुड से बॉलीवुड’ तक कहना पसंद करते हैं। हिंद महासागर क्षेत्र के बाकी हिस्सों को मध्य कमान, द अफ्रीका कमांड और यूरोप कमांड के बीच अमेरिकी थिएटर कमांड सिस्टम के तहत विभाजित किया गया है। नवीनतम अमेरिकी रक्षा विभाग के कार्यनीतिक पत्र (जून, 2019) में कहा गया है कि वर्तमान अंतर्राष्‍ट्रीय समुद्री व्यवस्था के लिए बड़ी चुनौती चीन से उत्पन्न हो रही है। न केवल पश्चिमी प्रशांत, पूर्वी चीन सागर, ताइवान जलडमरूमध्य, और दक्षिण चीन सागर में इसकी बढ़ती सैन्य क्षमताओं को खतरा है, इसके प्रमुख परिणाम बेल्ट-एंड-रोड-इनिशिएटिव पर भी इसके ऋण जाल के कारण समान प्रभाव है। चीनी आक्रामकता पूर्वी चीन सागर में एडीज़ (एयर डिफेंस आइडेंटिफिकेशन ज़ोन) का एक अनोखा रूप, और स्पैरिटिल्स और पैरासेल्स में द्वीपों का अत्यधिक सैन्यीकरण के परिणामस्वरूप, जापान के साथ सेनकाकू / डियाओयू द्वीप के विवाद को लेकर तनाव बढ़ गया। दक्षिण चीन सागर में 'नौ-डैश-लाइनों' में व्यक्त किए गए अपने अवैध समुद्री दावे; इन गतिविधियों के परिणामस्वरूप समुद्री उपग्रहों में नेविगेशन की स्वतंत्रता और अतिवृद्धि भी बाधित होती है। अमेरिका एक स्वतंत्र और मुक्त ’समुद्री प्रणाली की हिमाकत करता है और इसका दृष्टिकोण अपने सैन्य गठबंधन प्रणाली को मजबूत करना है, और अन्य देशों के साथ नौसैनिक और समुद्री रिश्तों का एक नेटवर्क है जो भू-सामरिक परिस्थितियों को बदलने से नकारात्मक रूप से रोकता है। यह संपूर्ण दृष्टिकोण यूएसपीओपीएसीओएम के उत्‍तरदायी क्षेत्र पर लागू है।

चीनी दृष्टिकोण। चीन पूर्व की अभिव्यक्ति का उपयोग करता है, जिसका नाम है, एशिया-प्रशांत’, जो यूरेशियन लैंडमास (दक्षिण एशिया रहित क्षेत्र) को प्रशांत महासागर में शामिल करता है जिसमें दक्षिण चीन सागर शामिल है। अमेरिका की चीनी आलोचना भी इसी प्रकार की है। वह अपने नवीनतम राष्ट्रीय रक्षा पत्र (जुलाई, 2019) में, यह बताता है कि पश्चिमी प्रशांत, दक्षिण चीन सागर सहित, अमेरिकी उकसावों को छोड़कर काफी हद तक स्थिर है। यह चीन के सहकारी संबंधों के नेटवर्क, दोनों द्विपक्षीय और साथ ही आसियान से संबंधित और बिना किसी अतिरिक्त क्षेत्रीय हस्तक्षेप के द्विपक्षीय विवादों को सुलझाने के अपने उद्देश्य को व्‍यक्‍त करता है। अमेरिकी नौसेना की 'नेविगेशन की स्वतंत्रता' गश्त क्षेत्रीय तनाव का एक प्रमुख स्रोत है, जिसमें कहा गया है कि 'संतुलित, स्थिर, खुला और समावेशी एशियाई सुरक्षा वास्तुकला' निर्माण करना जारी है। इस पत्र में बुनियादी ढांचे के निर्माण और दक्षिण चीन सागर में द्वीपों और भित्तियों पर ’आवश्यक रक्षात्मक क्षमताओं’ को तैनात करने की चीनी संप्रभुता का दावा किया गया है, साथ ही पूर्वी चीन सागर में सेनकाकू / डोक्यु द्वीपों के पानी में गश्त जारी रखने की भी मंशा है। आसियान दृष्टिकोण। भारत-प्रशांत (जून, 2019) के एक हालिया 'आउटलुक' बयान में, आसियान, एक राजनयिक तंग चाल में लिप्त, 'एशिया-प्रशांत' और 'भारत-प्रशांत' के बीच समानता को दर्शाता है जो प्रशांत महासागर और हिंद महासागर को एक अलग भूराजनीतिक लिंकेज वाले दो अलग-अलग जल निकायों के रूप में चिह्नित करता है। खुद को दो क्षेत्रों के केंद्र में स्थित बताते हुए, दस्तावेज़ में कहा गया है कि यह 'अपने आर्थिक और सुरक्षा वास्तुकला' को आकार देने के लिए आसियान के हित में है, हालांकि यह एक अलग तंत्र बनाने या अपनी मौजूदा स्‍थिति को बदलने के किसी भी इरादे को नकारता है लेकिन 'प्रतिस्पर्धी हितों के सामरिक परिवेश में एक ईमानदार मध्‍यस्‍थ' के रूप में कार्य करने की इसकी मंशा है। आसियान-केंद्रीयता को रेखांकित करते हुए, इसके संबंधित संगठनों में से एक, पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा क्योंकि इसमें केवल 10 आसियान सदस्य ही नहीं बल्कि चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूसभी शामिल हैं। अन्य संगठनों के साथ संवाद साझेदारी के माध्यम से, यह बताया गया है कि दक्षिण-पूर्व एशिया (टीएसी) में आसियान संधि और सहयोग, आसियान को इस तरह की वास्तुकला के लिए आधार प्रदान करता है।

जापानी दृष्टिकोण। जापानी प्रधानमंत्री आबे ने भारतीय संसद में अपने 2007 के भाषण में, पहली बार दो समुद्रों के मेल के अपने दृष्टिकोण को स्पष्ट किया। इसकी 'स्‍वतंत्र और खुली भारत-प्रशांत' कार्यनीति (एफओआईपी) भारतीय-प्रशांत क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारतीय और प्रशांत दोनों महासागरों को शामिल करती है, जो कानून के शासन, दिक्‍चालन की स्वतंत्रता और अधिकता, विवादों के शांतिपूर्ण निपटान और मुक्त व्यापार को बढ़ावा देने पर आधारित है। आसियान-केंद्रीयता को रेखांकित करते हुए, इसके तीन नीति स्तंभ स्वतंत्र व्यापार सहित कानून के शासन को बढ़ावा देना, संयोजकता और आर्थिक भागीदारी में सुधार के माध्यम से आर्थिक समृद्धि का अनुसरण करना और समुद्री कानून प्रवर्तन पर शांति और क्षमता निर्माण के साथ-साथ मानवीय सहायता और आपदा में सहयोग के लिए प्रतिबद्धता है। यह अमेरिकी भारत-प्रशांत दृष्‍टिकोण का समर्थन करता है।

ऑस्ट्रेलियाई दृष्टिकोण। ऑस्ट्रेलियाई भारत-प्रशांत का निर्माण अमेरिकी इंडोपैक के साथ सह-सीमा है। इसका 2013 का रक्षा श्वेत पत्र एक वैश्विक शक्ति के रूप में चीन के उदय, पूर्वी एशिया के बढ़ते सामरिक प्रभाव और भारत के "समय के साथ एक वैश्विक शक्ति के रूप में" उभरने के रूप में इस तरह के रुझानों को चिह्नित करता है जो भारत-प्रशांत को "सामारिक चाप" के रूप में आकार दे रहे हैं। इसकी प्राथमिकता सामरिक ध्यान संचार की समुद्री रेखाएं हैं जो इस क्षेत्र की समृद्धि के लिए महत्वपूर्ण हैं।

रूसी दृष्टिकोण। रूस, चीन की तरह,-एशिया-प्रशांत ’को एशियाई भूमि द्रव्यमान और प्रशांत क्षेत्र को शामिल करने वाला एक प्राकृतिक क्षेत्र मानता है। यह भारत-प्रशांत ’को चीन के नियंत्रण के उद्देश्य से मानता है और हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के बीच कोई सामरिक संबंध नहीं बनाता है। यह आर्थिक रूप से सुदूर पूर्व की ओर अपनी धुरी बना रहा है, लेकिन साथ ही, चीन के साथ एक मजबूत सामरिक संबंध बनाने के लिए अपनी वायु सेना और नौसेना, सैन्‍य व्‍यक्‍ति संपत्ति को स्‍थानांतरित कर रहा है।

• भारतीय दृष्टिकोण। भारतीय दृष्टिकोण अपनी बढ़ती क्षेत्रीय और व्यापक अंतर्राष्ट्रीय भूमिका के साथ अपने सामरिक हितों के विस्तार को दर्शाता है। इसे न केवल पश्चिमी प्रशांत और हिंद महासागर में शक्ति संतुलन के संरक्षण में अपने सामरिक परिप्रेक्ष्‍य पर विचार करना है, बल्कि 'भारत-प्रशांत' पर वार्ता के दौरान उभर रहे सामरिक मंतव्‍यों में भी शामिल होना है, जिसमें महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंध हैं, प्रमुख शक्तियों के के साथ तालमेल करना; ये शक्तियां क्षेत्र में भारत की भूमिका निभाने के लिए अपने व्यक्तिगत संबंधों का भी लाभ उठाना चाहती हैं। हालांकि, इसका अमेरिका के साथ काफी सामरिक अभिसरण है, यह काफी बारीक नीति का अनुसरण करता है। यह नीति भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा दो अर्थपूर्ण लेखों में लिखी गई है।

प्रधानमंत्री मोदी का शांगरी-ला संवाद भाषण (2018)। भारत-प्रशांत के लिए भारतीय दृष्टिकोण, जापान और आसियान के समान है, जिसमें भौगोलिक स्थान अमेरिका के पश्चिमी प्रशांत तट से अफ्रीका के पूर्वी तट तक फैला हुआ है, जहां दो महासागर एक सामरिक रूप में शामिल होते हैं। उन्होंने पूरे भारत-प्रशांत क्षेत्र में 'मुक्त, समावेशी और खुले' मंतव्‍य की हिमाकत की; यहाँ अमेरिका की स्थिति के साथ अंतर केवल 'भारत-प्रशांत' के भौगोलिक विन्यास में अंतर में नहीं है, बल्कि समुद्री क्रम की समावेशिता के संदर्भ में भी है, जबकि यह अमेरिका क्षेत्र में समावेशी संस्थानों के बारे में बात करता है। जब भी मौजूदा सामरिक संतुलन के संरक्षण पर तनाव होता है, तो वह विभिन्न संयोजकता परियोजनाओं को पारदर्शी और व्यावहारिक रूप से कार्यान्वित करने के बारे में भी बात करता है। उन्होंने मुक्त व्यापार, दिक्‍चालन और स्वतंत्रता, नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था, संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए सम्मान, सुशासन, अंतर्राष्ट्रीय कानून के पालन और विवादों को हल किए बिना विवादों के समाधान पर जोर दिया। उन्होंने लोकतांत्रिक और नियमों पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को बढ़ावा देने पर जोर दिया, 'जिसमें सभी राष्ट्र, छोटे और बड़े, समान और संप्रभु के रूप में पनपे'। देशों के साथ भारतीय मैत्री संबंध और एक स्थिर और शांतिपूर्ण क्षेत्र के लिए भारत के क्षेत्र में सहयोग के बारे में खुले तौर पर 'व्यक्तिगत रूप से या तीन या अधिक के स्वरूपों में गठजोड़ नहीं हैं। उन्होंने पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन और आरसीईपी (क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी) की ओर इशारा करते हुए भारत-प्रशांत आर्किटेक्चर में आसियान की केंद्रीयता को मान्यता दी, जो व्यापक भूगोल को कवर करता है।

प्रधान मंत्री मोदी का भाषण (2015)। मॉरीशस में दिए गए पहले के एक भाषण में हिंद महासागर में समुद्री व्यवस्था के उनके दृष्टिकोण को रेखांकित किया गया था। भू-राजनीतिक निर्माण, क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास के संवर्धन का एक संक्षिप्त रूप, हिंद महासागर क्षेत्र की सुरक्षा पारदर्शिता, परस्‍पर विश्वास और नियमों पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की जिम्मेदारी देता है, जो सभी गैर-लिट्टल देशों के वैध हितों के आधार पर भी मान्यता प्राप्त है। यह दृष्टि प्राकृतिक आपदाओं के लिए सामूहिक सहयोग और बहुपक्षीय और द्विपक्षीय व्यवस्थाओं में खोज और बचाव, और समुद्री अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के माध्यम से क्षेत्रीय एकीकरण में से एक है। किसी भी अन्य देश की तरह, भारत अपने क्षेत्र, द्वीपों सहित, और अपने राष्ट्रीय हितों की रक्षा के लिए राष्ट्रीय संप्रभुता का प्रयोग करता है। उन्होंने एकमात्र पैन के रूप में हिंद महासागर रिम एसोसिएशन और हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी की भूमिका को मजबूत करने के पक्ष में बात की- हिंद महासागर संगठन जो 21 वीं सदी में एक स्थिर, समग्र समुद्री प्रणाली बना सकते हैं जो समुद्री चुनौतियों को संबोधित करने में सक्षम है।

भारत की समुद्री कूटनीति। भारतीय समुद्री कूटनीति के विविध दृष्टिकोण है जो इसे पूरे भारत-प्रशांत क्षेत्र के विभिन्न उप-क्षेत्रों में रणनीतिक परिदृश्यों में परिलक्षित है जैसाकि इसके द्वारा परिभाषित किया गया है। इस खोज में, यह चिंता के अन्य देशों के राजनयिक उद्देश्यों को ध्यान में रखता है। विदेश मंत्रालय में भारत-प्रशांत प्रभाग की हाल ही में स्थापना, पिछले साल सिंगापुर में शांगरी-ला संवाद में प्रधान मंत्री द्वारा भाषण के अनुरूप भारत की समुद्री कूटनीति के लिए एक समग्र भारत-प्रशांत परिप्रेक्ष्य लाने के लिए सरकार की मंशा को दर्शाती है।

यूएसआईएनडीओपीएसीओएम द्वारा कवर किया गया क्षेत्र। इस क्षेत्र मे पूरा प्रशांत महासागर, बंगाल की खाड़ी, भारत के पश्चिमी तट और साथ ही मालदीव क्षेत्र है। अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ भारतीय उद्देश्यों के संबंध में काफी सामरिक अभिसरण है, जिसमें रणनीतिक संवाद के विभिन्न सेट उनके बीच हो रहे हैं। यह चिंता रणनीतिक संतुलन के रखरखाव तक फैली हुई है क्योंकि यह वर्तमान में प्रचलित है। इसकी समानता मालाबार श्रृंखला में भारत, अमेरिका और जापान से संबंधित अभ्यासों में प्रकट होती है जो बंगाल की खाड़ी और पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र के बीच वैकल्पिक रूप से आयोजित की जाती हैं; इन अभ्यासों को तीन नौसेनाओं और चीनी के बीच अंतर को प्राप्त करने के लिए वृद्धिशील परिष्कार के साथ आयोजित किया गया है, चीनी इन्हें बहुत करीब से देखते हैं, अक्सर अपने खुफिया जहाजों को भेजने के लिए उनकी निगरानी करते हैं। वर्ष 2017 में शुरू हुई एक और कूटनीतिक पहल, भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच भारत-प्रशांत पर अपने दृष्टिकोण को साझा करने के बारे में चतुर्भुज वार्ता है, जसमें भारतीय परिवेश में - बुनियादी ढाँचे के मुद्दों, आर्थिक सहयोग, और व्यापक सुरक्षा मुद्दों जैसे विषय हैं। आतंकवाद, एचएडीआर, समुद्री सहयोग और साइबर सुरक्षा सहित क्षेत्रीय सुरक्षा, जिसका उद्देश्य भारत सरकार के शब्दों में, "साझा मूल्यों और सिद्धांतों के आधार पर मुक्त, खुले, समृद्ध और समावेशी भारत-प्रशांत क्षेत्र" है; राजनीतिक संकेतन के संदर्भ में, काफी विनम्रता के साथ आयोजित किया गया है, क्योंकि अभी तक कोई संयुक्त बयान नहीं आया है, हालांकि यह इस वर्ष के संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से पहली बार विदेश मंत्रियों के स्तर पर मिला। जबकि चीन इन विकासों के सचेत है।, इसलिए इस चतुर्भुज संवाद में चार भागीदार हैं जो अपने संबंधित द्विपक्षीय अनुपात पर इन घटनाक्रमों के प्रभाव के बारे में बताते हैं। चीन के साथ एन.एस. भारत दक्षिण चीन सागर में मौजूदा सामरिक संतुलन के विभिन्न विकासों के प्रभाव के बारे में आसियान संवेदनशीलता के बारे में भी सचेत है, ताकि वहां की सुरक्षा वास्तुकला में इसकी केंद्रीयता पर नकारात्मक प्रभाव पड़े; भारत अमेरिका और चीन के बीच किसी भी तरह का टकराव नहीं चाहता है, यहां तक ​​कि दक्षिण चीन सागर पर संयुक्त राष्ट्र ट्रिब्यूनल के पंचाट का भी समर्थन करता है। भारत सुरक्षा और सैन्य सहित गतिविधि के सभी क्षेत्रों में व्यापक सहयोग विकसित करने के लिए आसियान और क्षेत्रीय देशों के साथ सक्रिय जुड़ाव की नीति का अनुसरण करता है। यह कई आसियान-संबंधित संगठनों का सदस्य है, जिसमें ईएएस शामिल है, और वार्षिक शिखर स्तर की चर्चा शामिल है। यह आसियान के साथ चीन और अमेरिका की तर्ज पर संयुक्त नौसैनिक अभ्यास करने की भी सोच रहा है। यह वर्तमान में आरसीईपी के लिए चर्चा कर रहा है। इसने पीआईएफ के साथ दो शिखर-स्तरीय संवाद आयोजित किए हैं। यह ध्यान में रखने की आवश्यकता है कि भारत की एक्‍ट ईस्‍ट नीति में जापान, दक्षिण कोरिया, मंगोलिया और चीन शामिल हैं जिनके साथ व्यापक वार्ता प्रक्रियाएं चल रही हैं।

हिंद महासागर। भारत अपनी सुरक्षा पर प्रत्यक्ष प्रभाव के कारण शक्ति-संतुलन की स्थिति के प्रति अत्यधिक संवेदनशील है - जो कि इसके पूरे परिप्रेक्ष्‍य में रहा है। अमेरिका के साथ बड़े सामरिक अभिसरण के कारण, यह महसूस करता है कि यह हिंद महासागर में समुद्री प्रणाली को काफी हद तक आकार दे सकता है; अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति दस्तावेज (दिसंबर, 2017) में मान्यता है - और इसका उद्देश्य भारतीय नौसेना की नेतृत्वकारी भूमिका को बढ़ाना है। यद्यपि इसका उद्देश्य हिंद महासागर क्षेत्र में 'सुरक्षा के शुद्ध प्रदाता' के रूप में क्षमताओं को विकसित करना है, जैसाकि अमेरिका के बाद सबसे सशक्‍त नौसेना होने के बावजूद, अपने नवीनतम सुरक्षा सिद्धांत, इसकी क्षमता का नवीनतम (2015) में उल्लेख किया गया है। इसके अलावा, फारस की खाड़ी, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के संबंध में स्पष्ट रूप से पश्चिमी हिंद महासागर क्षेत्र में अमेरिका के साथ इसका सामरिक अभिसरण, चौथा नहीं है, हालांकि यूएस सेंटकॉम के साथ यह सहयोग बढ़ रहा है। फिर भी, हिंद महासागर में अमेरिकी रंगमंच की आज्ञाओं की प्रकृति, अनिवार्य रूप से, इसका तात्‍पर्य है कि प्रशांत क्षेत्र में प्रचलित सुरक्षा वास्तुकला के विपरीत एक अखिल भारतीय महासागर समुद्री प्रणाली मौजूद नहीं है। विभिन्न नौसेनाएं अलग-अलग कार्यों को अंजाम देती हैं लेकिन अखिल-हिंद महासागर के आधार पर समुद्र पर अच्छा क्रम ’बनाए रखने के लिए कोई प्रभावी राष्ट्रीय या बहुराष्ट्रीय गतिविधि नहीं है। फारस की खाड़ी और अफ्रीका क्षेत्रों में संतुलन के खतरे हैं, जबकि चीनी नौसेना की गतिविधियों को वर्तमान संतुलन के रखरखाव के समर्थन के रूप में नहीं देखा जाता है। समग्र सामुद्रिक प्रणाली की अनुपस्थिति में, जलवायु परिवर्तन, राष्‍ट्र की संवेदनशीलता जैसे विशेष रूप से समुद्र के चार बिंदुओं में अन्य विघटनकारी चुनौतियां, समुद्री डकैती, आतंकवाद, मानव तस्करी जैसे गैर-राष्ट्रीय अपराध, अवैध मछली पकड़ने को प्रभावी ढंग से पूरा नहीं किया जा सकता है, यह माना जा सकता है कि नौसैनिक प्रतिद्वंद्विता का स्तर पूर्वी चीन सागर और दक्षिण चीन सागर में होने वाली प्रणाली के लिए खतरा नहीं है; हालाँकि, यदि निर्धारित प्रयास नहीं किए गए, तो मौजूदा संतुलन, जैसेकि यह है, कई चुनौतियों के तहत कम किया जा सकता है जैसेकि चीनी नौसेना का विस्तार और जलवायु परिवर्तन। भारत समुद्री सुरक्षा और सुरक्षा सहित आईओआरए के विभिन्न चार्टर मिशनों को सशक्‍त करने में सक्रिय भूमिका निभा रहा है। यह दिसंबर 2018 से दिल्ली के बाहर सूचना फ्यूजन केंद्र-हिंद महासागर क्षेत्र (आईएफसी-आईओआर) के संचालन के साथ समुद्री डोमेन जागरूकता के तहत आने वाले क्षेत्र को भौगोलिक रूप से बढ़ाने में भी योगदान दे रहा है। यह क्षमता विभिन्न देशों को व्यापक गतिविधियों में निगरानी रखने में मदद करती है। यह एचओएनआर सहित समुद्री सुरक्षा और सुरक्षा के अंतर-विकास के मुद्दों को विकसित करने के लिए, आईओएनएस, लिट्टोरल नेवी और संवाद भागीदारों के प्रमुखों के एक सम्मेलन में सक्रिय रूप से संलग्न है। भारतीय भी बिम्‍सटेक संगठन में सक्रिय रूप से शामिल है जो बंगाल की खाड़ी और भूटान और नेपाल की खाड़ी के बीच सहयोग विकसित कर रहा है। भारत का जीसीसी जैसे बहुपक्षीय संगठनों और अफ्रीका के पूर्वी समुद्री तट, अफ्रीकी संघ, पूर्वी एशिया समुदाय और दक्षिणी अफ्रीकी विकास समुदाय के साथ एक संवाद संबंध है।

द्विपक्षीय / बहुपक्षीय पहल। भारत का हिंद महासागर क्षेत्र में बड़ी संख्या में आईओआरए और द्वीप देशों के साथ एक सक्रिय सहयोग कार्यक्रम है, जिसमें उच्च स्तर के दौरे, परामर्श तंत्र, साथ ही समुद्री सहयोग गतिविधियां शामिल हैं, जिसमें भारतीय नौसेना और तटरक्षक शामिल हैं। कई देशों के ईईजेड में भारतीय नौसेना के गश्ती दल हैं ताकि वे अपने संसाधनों को बेहतर ढंग से सुरक्षित कर सकें और अवैध गतिविधियों की जांच कर सकें। भारतीय नौसेना अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखाओं के साथ विभिन्न मैत्रीपूर्ण नौसेनाओं के साथ समन्वित गश्त भी करती है। यह अपने समुद्री संसाधनों के बेहतर दोहन के लिए भागीदार देशों के लिए सटीक हाइड्रोग्राफिक मानचित्र प्रस्तुत करता है। नौसेना प्लेटफार्मों के प्रशिक्षण और हस्तांतरण के अलावा, भारतीय नौसेना ने समुद्री सुरक्षा के लिए अपने गश्त क्षेत्र को बढ़ाने के लिए पोर्ट कॉल और रसद साझा करने के लिए भी समझौते किए हैं। यह उनके लिए बेहतर डोमेन जागरूकता के लिए तटीय राडार प्रतिष्ठानों को स्थापित करने में मित्र देशों की मदद भी कर रहा है। यह एंटी-पायरेसी मिशनों में और संघर्ष क्षेत्रों से फंसे नागरिकों को निकालने में प्रमुख भूमिका में रहा है। नौसेना की प्रमुख मिलन श्रृंखला बड़ी संख्या में मैत्रीपूर्ण नौसेनाओं को एक साथ लाती है, क्योंकि नौसेना के चीफ ऑफ नेवी चीफ्स गोवा कॉन्क्लेव के प्रमुख भारत के समुद्री कूटनीति का हिस्सा हैं। समुद्र में अच्छी व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए अपने स्वयं के प्रयासों के कारण, भारतीय नौसेना के जहाजों और विमानों को महत्वपूर्ण समुद्री लेन और चोकेप पॉइंट पर तैनात किया जाता है। नौसेना के अलावा, एक और महत्वपूर्ण योगदान पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय का यह है कि वह विकासशील देशों की क्षमताओं को ऑपरेशनल ओशनोग्राफी में विकसित करने, मौसम की घटनाओं का पूर्वानुमान लगाने और जलवायु परिवर्तन में मदद करने के लिए अपने महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे में मदद करता है।

समापन टिप्पणी। भारत-प्रशांत के दृष्टिकोण को प्रस्तुत करना अमेरिका के पश्चिमी तट से अफ्रीका के पूर्वी तट तक फैले पूरे क्षेत्र में तेजी से बदल रही भू-राजनीति की पहचान है जिसमें भारत के महत्वपूर्ण हित शामिल हैं। भारतीय दृष्टिकोण वर्तमान बैलेंस-ऑफ-पावर स्थिति में अपने पक्ष के प्रति चिंतनशील है, जहां वैश्विक सहित प्रमुख शक्तियों के समीकरणों को अपने राष्ट्रीय हितों को ध्यान में रखना है। ये बहुविध हैं और क्षेत्रीय / उप-क्षेत्रीय स्थिरता और सुरक्षा के लिए चुनौतियों के बाद से विशुद्ध रूप से संतुलित-शक्ति के संदर्भ में भारतीय परिप्रेक्ष्य को देखना मेरी राय में गलत होगा। वर्तमान प्रवृत्ति एक महासागर में संवर्धन के लिए है ताकि दूसरे को प्रभावित किया जा सके, जो उपयुक्त संस्थागत बुनियादी ढांचे के निर्माण की आवश्यकता है, जो वर्तमान में मौजूद नहीं है या इन चुनौतियों को निर्बाध रूप से पूरा करने के लिए अपर्याप्त है। सामरिक विश्वास की कमी, संस्थागत अपर्याप्तता, और जलवायु परिवर्तन, राष्‍ट्र की संवेदनशीलता, राष्ट्रीय नेताओं के दृष्टिकोण, सैन्य मामलों में क्रांति और तकनीकी परिवर्तन सशक्त व्यक्तियों की दृष्टि से लेकर अस्थिरता के खतरों का व्यापक स्तर पर चुनौतियां हैं। भारत की समुद्री कूटनीति को इन शक्तियों को अन्य शक्तियों के साथ विवेकपूर्ण सहयोग के साथ-साथ अपनी क्षमताओं और इस सद्भावना के साथ आकर्षित करना है कि यह इस विशाल क्षेत्र के बड़े हिस्से में है।