विशिष्ट व्याख्यान विशिष्ट व्याख्यान

पश्चिम की ओर रुख: पश्चिम एशिया के साथ भारत के सम्बन्ध

  • Distinguished Lectures Detail

    By: राजदूत (सेवानिवृत) जीतेन्द्र नाथ मिश्रा
    Venue: केरल का केंद्रीय विश्वविद्यालय
    Date: अक्तूबर 10, 2019

प्रोफेसर (डॉ.) जॉन एस. मूलक्कट्टू,
प्रोफेसर (डॉ.) पी.सी. प्रसन्ना कुमार,
प्रोफेसर रेनहार्ट फिलिप,
डॉ. उमा पुरुषोथमन,
और मित्रों,


इस व्याख्यान के लिए मुझे आमंत्रित करने के लिए मैं, केरल के केंद्रीय विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय संबंध और राजनीति विभाग को धन्यवाद देता हूँ। गर्मजोशी से भरे आपके स्वागत के लिए आपका धन्यवाद । मेरी यहाँ की यात्रा को प्रायोजित करने के लिए मैं विदेश मंत्रालय के विदेशी प्रचार विभाग को, और स्क्वाड्रन लीडर प्रिया जोशी को भी उनके उत्कृष्ट सहयोग के लिए धन्यवाद देता हूँ ।

परिचय

भारत का पश्चिम एशिया से संबंध सहस्राब्दियों पुराना है। सिंधु घाटी सभ्यता के दिलमुन (आधुनिक बहरीन) के साथ व्यापारिक संबंध थे। छठी शताब्दी ईसा पूर्व में, पंजाब, फारसी साम्राज्य का हिस्सा था। तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में, मिस्र के टॉलेमी द्वितीय और मौर्य सम्राटों चंद्रगुप्त मौर्य और अशोक ने राजदूतों का आदान-प्रदान किया। फ़ारसी, 1835 तक मुगल दरबार की भाषा और भारत की शासकीय भाषा थी। यह संबंध अब भी जारी है।

पश्चिम नीति देखें

हमारी ‘पूर्व की ओर देखो नीति’ के विपरीत, एक लंबे समय तक, पश्चिम की ओर एक ठोस और व्यापक नीतिगत दृष्टिकोण की कमी थी।

2 मार्च 2016 को पहली रायसीना वार्ता में, सोच में एक बदलाव के रूप में, विदेश सचिव डॉ. एस जयशंकर ने कहा: "यदि पूर्वी मोर्चा, दीर्घकालिक नीति पर बन रहा है, तो पश्चिमी मोर्चा, वैचारिक रूप से अपेक्षाकृत अधिक आधुनिक है ...” उन्होंने आगे कहा, "मैं विश्वासपूर्वक भविष्यवाणी कर सकता हूँ कि 'एक्ट ईस्ट' का मिलान 'थिंक वेस्ट' के साथ होगा।"

मैं भारत के निकट पश्चिम पर ध्यान केंद्रित करने जा रहा हूँ, अर्थात मुख्य रूप से खाड़ी और उससे आगे।

पश्चिम एशिया भारत के विस्तारित पड़ोस का एक हिस्सा है। इस क्षेत्र में निरंतर शांति और स्थिरता, भारत के लिए महत्वपूर्ण रणनीतिक हित है।

प्रधान मंत्री नेहरू ने इस पर बल दिया था कि भारत की स्वतंत्रता और अस्तित्व हिंद महासागर पर इसके नियंत्रण पर निर्भर है। मार्च, 1958 में, उन्होंने कहा, "मैं समुद्र के साथ हमारे करीबी संबंधों और समुद्र कैसे हमें साथ लाया है इस पर विचार करता हूँ । प्राचीन काल से ही भारत के लोगों का समुद्र से बहुत अंतरंग संबंध रहा है ... "हम समुद्र पर कमज़ोर होने का जोखिम नहीं उठा सकते ... इतिहास ने दिखाया है कि हिंद महासागर को जो भी शक्ति नियंत्रित करती है, जैसे कि पहली बार भारत का समुद्री व्यापार उसकी दया पर, और दूसरी बार भारत की खुद की बड़ी स्वतंत्रता।"

समुद्र, खाड़ी और पश्चिम एशिया के साथ हमारे संबंधों के मूलभूत निर्माण खंड हैं।

यह कोई घिसीपिटी बात नहीं है कि खाड़ी के साथ हमारे संबंध ऐतिहासिक हैं, और हम हमेशा साथ रहे हैं। भारतीय लोकप्रिय संस्कृति को खाड़ी में लाने में प्रवासी भारतीयों का महत्वपूर्ण योगदान है।

मेरा सुझाव है कि जिस तरह भारतीय सभ्यता पर अरब प्रभाव महत्वपूर्ण है, उसी तरह भारत का भी प्रभाव अरबों पर फैला हुआ है। इतिहास और भूगोल एक ऐसा सम्बन्ध बनाते हैं, जिसकी बेहतर सराहना की जानी चाहिए ।

एक ओर, समुद्री मार्ग से केरल और महाद्वीपीय मार्ग से सिंध के माध्यम से अरब इस्लाम को भारत लाए।

दूसरी ओर, भारत ने भी खाड़ी में अपनी उपस्थिति दर्ज की। न्यूमिसबिंग के संस्थापक रामकुमार ने खलीज टाइम्स अखबार में कहा है कि 1957 में संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन, कुवैत, ओमान और कतर में इस्तेमाल होने वाली मुद्रा भारतीय रुपया थी। पाकिस्तान के मकरान तट पर स्थित ग्वादर 1958 तक ओमान के कब्जे में था। इसका मतलब यह है कि 1947 तक भारत की एक अरब देश के साथ प्रत्यक्ष भूमि सीमा थी।

पश्चिम एशिया भारत के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

स्वतंत्रता के बाद के भारत के पश्चिम एशिया में रणनीतिक हित हैं। खाड़ी के देश भारत को बड़ी मात्रा में तेल और प्राकृतिक गैस की आपूर्ति करते हैं, बड़ी संख्या में प्रवासियों के मेजबान हैं, व्यापार और निवेश को बढ़ावा देते हैं, और सुरक्षा और खुफिया सहयोग में जुड़े हैं।

तेल और गैस
खाड़ी- पश्चिम एशिया- उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र भारत की ऊर्जा जरूरतों के एक बड़े भाग की आपूर्ति करता है – भारत के कच्चे तेल के कुल आयात का 60 प्रतिशत से अधिक और भारत की एलएनजी आवश्यकताओं के 85 प्रतिशत से अधिक का योगदान है।

सऊदी अरब भारत को कच्चे तेल का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है, जो भारत की 20 प्रतिशत जरूरतों को पूरा करता है, जिसका मूल्य 2014- 2015 में 21.8 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

प्रवासी और प्रेषण
भारतीय समुदाय
पश्चिम एशिया में लगभग 8 से 9 मिलियन भारतीय रह रहे हैं। इस संख्या में, सऊदी अरब में 2.6 मिलियन (नवंबर, 2019 में), संयुक्त अरब अमीरात में 2.5 मिलियन, कुवैत में 800,000, कतर और ओमान प्रत्येक में 700,000 और बहरीन में 400,000 शामिल हैं।

इनमें प्रबंधक, डॉक्टर, तकनीशियन, इंजीनियर, आईटी विशेषज्ञ, चार्टर्ड अकाउंटेंट, बैंकर, श्रमिक और घरेलू मददगार शामिल हैं। इनमें से अधिकांश देशों में प्रवासियों की संख्या में भारतीय पहले स्थान पर हैं। वे भारत की सद्भावना के दूत हैं ।

भारतीय समुदाय का एक बड़ा हिस्सा केरल से है, अन्य तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल से हैं। केरल से होने के नाते, आप समझेंगे कि खाड़ी में अपने राज्य से एक बड़े प्रवासी समुदाय का क्या मतलब है।

सऊदी सरकार, सऊदी अरब में भारतीय समुदाय की भूमिका को स्वीकार करती है। वर्ष 2016 में, प्रधान मंत्री मोदी की यात्रा के दौरान जारी किए गए संयुक्त वक्तव्य में उल्लेख था: "दोनों नेताओं ने सऊदी अरब में भारतीय समुदाय की मूल्यवान भूमिका और भारत और सऊदी अरब दोनों देशों की प्रगति और विकास में इसके योगदान की सराहना की।"

यह समुदाय कानून का पालन करने वाला है। कतर के अमीर ने "कतर के विकास में भारतीय समुदाय की भूमिका और योगदान के लिए प्रशंसा व्यक्त की" और "संतोष व्यक्त किया कि कतर में भारतीयों को उनके शांतिपूर्ण और कड़ी मेहनत के स्वभाव के लिए बहुत सम्मान दिया जाता है।"

प्रेषण

इस समुदाय का भारतीय अर्थव्यवस्था पर आवक प्रेषणों के माध्यम से महत्वपूर्ण प्रभाव है।

अंतर्राष्ट्रीय प्रवास पर संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में खाड़ी से भारत में आवक प्रेषण 38 बिलियन अमेरिकी डॉलर था ।

2016 में भारत में 62.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर के कुल आवक प्रेषण, भारत के सकल घरेलू उत्पाद का 3 प्रतिशत, पर विचार करें तो, भारतीय अर्थव्यवस्था पर खाड़ी प्रेषण का प्रभाव महत्वपूर्ण है।

व्यापार और निवेश
व्यापार

जीसीसी के सदस्य देशों को पश्चिम एशियाई और उत्तरी अफ्रीकी क्षेत्र के देशों के साथ मिला कर लिया जाए तो ये भारत के सबसे बड़े व्यापारिक भागीदार हैं। 2014-15 में भारत और इस क्षेत्र के बीच दो-तरफा व्यापार 180 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक का था।

जुलाई, 2018 के भारतीय वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 2017- 2018 में खाड़ी देशों के साथ व्यापार 123 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक था, अकेले संयुक्त अरब अमीरात से यह 50 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

2008 में, संयुक्त अरब अमीरात ने चीन को हमारे सबसे बड़े व्यापारिक भागीदार बनने में पीछे कर दिया, क्योंकि हजारों भारतीय कंपनियों ने अपने विशेष आर्थिक क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति स्थापित की।

सऊदी अरब भारत का चौथा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है, 2014-15 में 39.26 बिलियन अमेरिकी डॉलर के उच्चतम स्तर के बाद यह अब 28 बिलियन अमेरिकी डॉलर है।

भारतीय वाणिज्य मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, 2017- 2018 में कुवैत के साथ व्यापार 8.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

निवेश

यूएई-इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट फंड का लक्ष्य भारत के बुनियादी ढांचे, विशेष रूप से रेलवे, बंदरगाहों, सड़कों, हवाई अड्डों और औद्योगिक गलियारों और पार्कों में निवेश में सहयोग करने के लिए 75 बिलियन अमेरिकी डॉलर का है।

15 अरब अमेरिकी डॉलर के निवेश के साथ, सऊदी अरामको की, रिलायंस इंडस्ट्रीज के तेल कारोबार में 20 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।

जी सी सी की पूर्व की ओर देखो नीति

भारत की लुक वेस्ट पॉलिसी को जीसीसी के सदस्य देशों द्वारा "पूर्व की ओर देखो" नीति के साथ पूरक बनाया गया है, जिसमें भारत और चीन और अपने पूर्व के अन्य देशों पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

प्रश्न

डेटा दर्शाता है कि खाड़ी देशों के साथ हमारे संबंध महत्वपूर्ण और मजबूत हैं। लेकिन उन्हें कम महत्त्व दिया जा रहा है। यह हमेशा और आगे के लिए भी केवल प्रोत्साहन भर नहीं रह सकते । इस व्याख्यान को आँकड़ों के साथ दर्शाने में मेरा पूरा उद्देश्य यह प्रदर्शित करना है कि ये रिश्ते अत्यंत महत्वपूर्ण हैं।

आगे बढ़ते हैं, पश्चिम एशिया के साथ हमारे संबंध कई प्रश्न खोलते हैं।

खाड़ी, ईरान और इजरायल के साथ भारत के संबंधों पर विचार करें। क्या उनके प्रति दृष्टिकोण भारतीय हितों को ठीक से संबोधित करता है? क्या भारत संतुलन की नीति अपनाता है? क्या तीनों देशों में से किसी पर भी कम या ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए? मैं इसका कोई जवाब नहीं देता, और इसे आपके निर्णय पर छोड़ता हूँ।

खाड़ी बनाम ईरान पर भारत का दृष्टिकोण

ईरान और खाड़ी अरब देश भारत द्वारा ध्यान दिए जाने के मामले में प्रतिद्वंद्वी हैं। सी. राजा मोहन का तर्क है कि खाड़ी के प्रति रणनीतिक निष्क्रियता और ईरान के प्रति एक सक्रिय नीति ने भारत की महत्वाकांक्षा और प्रभाव को सीमित कर दिया है। मेरे विचार में, इस दावे के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

अंतर-अरब विवाद और भारत

यह एक स्पष्ट तथ्य है कि भारत, अंतर-अरब विवादों में बहुत विवेकपूर ढंग से, अपने हितों को सावधानीपूर्वक ध्यान में रखते हुए आगे बढ़ा है। अक्टूबर, 2018 में दिवंगत विदेश मंत्री, श्रीमती सुषमा स्वराज ने कतर-सऊदी अरब के झगड़े के बीच कतर का दौरा किया। यह भारत की ऊर्जा सुरक्षा के लिए कतर के महत्व को मान्यता देना था, जो भारत को सबसे बड़ा एलएनजी आपूर्तिकर्ता था। कतर, भारत को कच्चे तेल का भी एक प्रमुख आपूर्तिकर्ता है। कुछ अरब देशों द्वारा कतर पर लगाए गए कूटनीतिक और व्यापारिक प्रतिबंधों का, कतर, या किसी अन्य खाड़ी देश के साथ भारत के व्यापार और ऊर्जा संबंधों पर, प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है, और न पड़ना चाहिए। भारत इन सभी देशों के साथ घनिष्ठ और सौहार्दपूर्ण संबंध रखता है।

दूसरे शब्दों में, खाड़ी में भारत के हित और सरोकार किसी एक विशेष देश पर केंद्रित नहीं हैं।

विभिन्न सहभागिताओं की तलाश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद, अरब सरकारें इजरायल के प्रति संभावित भारतीय झुकाव को लेकर थोड़ा चिंतित थीं। यह चिंता जल्द ही दूर हो गई थी। प्रधान मंत्री ने इजरायल सहित पूरे पश्चिम एशिया के साथ संबंधों के महत्व को अच्छी तरह से समझा। उन्होंने 18 अप्रैल, 2018 को यूके के वेस्टमिंस्टर में अपना दृष्टिकोण स्पष्ट किया: "भारतीय प्रधानमंत्रियों को इजरायल जाने से किसने रोका है । हाँ, मैं इजरायल जाऊंगा और यहाँ तक कि मैं फिलिस्तीन भी जाऊँगा। मैं सऊदी अरब के साथ और सहयोग करूँगा और भारत की ऊर्जा जरूरतों के लिए मैं ईरान के साथ भी जुड़ूंगा।" ।

यूएई, ओमान और सऊदी अरब के साथ संबंधों में वास्तव में प्रधान मंत्री मोदी के मार्गदर्शन में महत्वपूर्ण सुधार आया है।

संयुक्त अरब अमीरात

2014 में प्रधान मंत्री मोदी के सत्ता में आने के बाद यूएई के साथ राजनीतिक संबंधों में विकास विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं।

अगस्त, 2015 में, उन्होंने यूएई की अपनी पहली यात्रा की। 1981 में दिवंगत प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा की गई यात्रा के बाद किसी प्रधान मंत्री की यह पहली यात्रा भी थी।

फरवरी, 2018 और अगस्त, 2019 में प्रधान मंत्री मोदी ने इसके बाद दो और यात्राएँ कीं। बाद की यात्रा के दौरान यूएई ने प्रधान मंत्री को अपना सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, "ऑर्डर ऑफ जायद," प्रदान किया।

दिवंगत विदेश मंत्री, श्रीमती सुषमा स्वराज ने, 1 से 2 मार्च, 2019 को अबू धाबी में आर्गेनाईजेशन ऑफ इस्लामिक को-ऑपरेशन की विदेश मंत्रियों की बैठक की 46 वीं काउंसिल में "गेस्ट ऑफ ऑनर" के रूप में वक्तव्य दिया । यूएई ने "मित्र देश भारत को, उसके महान वैश्विक राजनीतिक कद के साथ-साथ उसकी चिर-सम्मानित और सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत की गहरी जड़ों और इसके महत्वपूर्ण इस्लामी घटक को देखते हुए, सम्माननीय अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था।"

अबू धाबी के क्राउन प्रिंस, शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान, गणतंत्र दिवस 2017 के अवसर पर मुख्य अतिथि थे। इस यात्रा के दौरान रिश्तों को "व्यापक रणनीतिक साझेदारी" के रूप में उन्नत किया गया था। संयुक्त अरब अमीरात के साथ संयुक्त वक्तव्य एक असाधारण दस्तावेज था क्योंकि उसने पाकिस्तान को भारत विरोधी गतिविधियों के लिए यूएई क्षेत्र का उपयोग करने से मना किया था।

यूएई ने जम्मू और कश्मीर के पुनर्गठन के समर्थन में प्रतिक्रिया दी है। भारत में इसके राजदूत अहमद अल बन्ना ने कहा: "हम उम्मीद करते हैं कि ये परिवर्तन सामाजिक न्याय एवं सुरक्षा और स्थानीय शासन में लोगों के विश्वास में सुधार करेंगे और आगे स्थिरता और शांति को प्रोत्साहित करेंगे।"

अन्य खाड़ी देशों ने जम्मू और कश्मीर के पुनर्गठन के प्रति एक शांत समझ दिखाई है।

बहुलता और सहिष्णुता को बढ़ावा देने की अपनी नीति के तहत, 2015 में यूएई सरकार ने अबू धाबी में एक मंदिर बनाने के लिए भूमि प्रदान की।

यूएई ने अगस्ता हेलीकॉप्टर मामले में वांछित भगोड़े आर्थिक अपराधियों जैसे मिशेल और अन्यों का भारत को प्रत्यर्पण किया है।

पहली बार, 2018 में संयुक्त नौसेना अभ्यास आयोजित किया गया था, और रक्षा, खुफिया और आतंकवाद-रोधी सहयोग अधिक प्रमुखता प्राप्त कर रहे हैं।

2018 में, प्रधान मंत्री मोदी की यात्रा के दौरान, रेलवे, ऊर्जा, वित्तीय सेवाओं और जनशक्ति में समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए थे। पहली बार, एक भारतीय संघ (ओवीएल, बीपीआरएल और आईओसीएल) और अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी के बीच अबू धाबी के समुद्र तट से दूर लोअर ज़खुम रियायत में 10 प्रतिशत भाग लेने वाले ब्याज के अधिग्रहण की अनुमति देने वाले एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए । यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि भारत में पारंपरिक रूप से यूएई के साथ केवल खरीदार-विक्रेता संबंध ही थे।

खाड़ी और पश्चिम एशिया के अन्य दौरे

प्रधान मंत्री मोदी ने 2017 में सऊदी अरब, कतर और ईरान और इज़राइल के दौरे भी किए। वे 2019 में फिलिस्तीन भी गए ।

सऊदी अरब

प्रधान मंत्री मोदी ने 2016 में सऊदी अरब का दौरा किया, और साम्राज्य का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार प्राप्त किया। इस महीने में बाद में एक बार फिर सऊदी अरब की उनकी यात्रा तय है।

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने फरवरी, 2019 में भारत का दौरा किया। उन्हें "राजकीय यात्रा" सम्मान दिया गया था, और 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर की राशि के सऊदी निवेश की घोषणा की गई थी।

सऊदी अरब ने जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन पर सावधानीपूर्वक प्रतिक्रिया दी है।

मार्च, 2018 में, पहली बार में, सऊदी अरब ने एयर इंडिया को इजरायल जाने के लिए अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति दी। समाचार वेबसाइट अलजजीरा.कॉम ने इसे "भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के क्षेत्र में प्रभाव की स्वीकृति" कहा। यह निश्चित रूप से एक संकेत था कि संबंधों में कितनी गर्मजोशी थी ।

ईरान

नक्शे में देखें, और ईरान हमारा निकट-पड़ोसी है। मौर्य साम्राज्य से ले कर हमारे मजबूत सभ्यतागत संबंध हैं। 1947 तक हमारा एक समान बॉर्डर था । राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों ने नियमित यात्राओं का आदान-प्रदान किया है। दुनिया के चौथे सबसे बड़े तेल भंडार और दूसरे सबसे बड़े प्राकृतिक गैस भंडार के साथ, ईरान भारत की ऊर्जा सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है। ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर प्रतिबन्ध ने कच्चे तेल में खरीदार-विक्रेता संबंध को ऊर्जा संसाधनों के विकास की साझेदारी में बदलने की चुनौतियाँ प्रस्तुत कीं । आश्चर्य की बात नहीं है कि भारत ने 2016 में ईरान पर परमाणु संबंधी प्रतिबंधों को हटाने की घोषणा को "धैर्यपूर्ण कूटनीति के लिए एक महत्वपूर्ण सफलता" कहा।

2012 में, तत्कालीन प्रधान मंत्री डॉ, मनमोहन सिंह ने ईरान का दौरा किया। प्रधान मंत्री मोदी ने 2016 में ईरान का दौरा किया। ईरान से, राष्ट्रपति अली अहमदीनेजाद (2008) और राष्ट्रपति डॉ, हसन रूहानी (2018) ने भारत का दौरा किया है। मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी-स्तर की यात्राओं का आदान-प्रदान नियमित रूप से होता रहा है। अफगानिस्तान पर बातचीत चल रही है।

2014-15 में व्यापार 13.13 बिलियन अमेरिकी डॉलर था। 2018- 2019 में यह बढ़कर 17.03 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया था।

चाबहार पोर्ट और कनेक्टिविटी

भारत ने ईरान में चाबहार बंदरगाह के विकास के लिए एक समझौता ज्ञापन को अंतिम रूप दिया है, जिसमें कंटेनर और बहुउद्देशीय टर्मिनलों के रूप में दो समर्पित बर्थ का भारत द्वारा विकास शामिल होगा। मई, 2016 में प्रधान मंत्री मोदी की तेहरान यात्रा के दौरान इस पर एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। इस यात्रा के दौरान हस्ताक्षरित अनुबंध के तहत, भारत बंदरगाह के पहले चरण के लिए 150 मिलियन डॉलर का क्रेडिट प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध था। 6 अप्रैल, 2016 को, भारत सरकार ने धन की मात्रा को 150 मिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़ा कर 450 मिलियन अमेरिकी डॉलर के लिए अनुमोदन प्रदान किया।

ओआईसी

ओआईसी रिश्ते में एक समस्या क्षेत्र है। 1990 से, पाकिस्तान के उकसाने पर, ओआई सी साल-दर-साल भारत के खिलाफ बयान और संकल्प जारी करता रहा है, जिसे भारत ने सिरे से खारिज कर दिया है।

इज़रायल

जुलाई, 2017 में, प्रधान मंत्री मोदी ने किसी भारतीय प्रधान मंत्री द्वारा इज़रायल की पहली यात्रा की, उसके बाद जनवरी, 2018 में प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भारत की यात्रा की। अमेरिका और रूस के बाद इज़रायल तीसरा सबसे बड़ा रक्षा आपूर्तिकर्ता है, जिसका कारोबार 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है। दोनों पक्षों का शुष्क कृषि प्रौद्योगिकी, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, स्टार्ट अप, साइबर स्पेस और इंटेलिजेंस में सहयोग है।

द इंडिपेंडेंट अखबार के अनुसार, 2017 में भारत हथियारों के लिए 530 ब्रिटिश पाउंड का भुगतान करते हुए इज़रायल का सबसे बड़ा ग्राहक था। इज़रायल भारत के खिलाफ निर्देशित आतंकवाद की समझ दिखाता है। 2018 में भारत की यात्रा के दौरान, प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा: "भारतीय और इजरायल आतंकवादी हमलों के दर्द को अच्छी तरह से जानते हैं ... हमें मुंबई की भीषण बर्बरता याद है। हम अपने दांत पीसते हैं, हम पलट कर लड़ते हैं, हम कभी हार नहीं मानते।"

फिलिस्तीन:

इज़रायल के साथ संबंध विकसित करते समय, भारत फिलिस्तीन के साथ संबंधों के प्रति भी जागरूक है। प्रधान मंत्री मोदी, 9 फरवरी, 2018 को फिलिस्तीन-रामल्ला जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने।

भविष्य का क्या?

क्षेत्र के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए भारत को क्या करना चाहिए? मेरा सुझाव है कि हम:

राजनीतिक स्तर के दौरे ज्यादा और बार-बार करें। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, प्रधानमंत्रियों द्वारा यूएई की यात्राओं में (1981 और 2015 के बीच) 34 वर्ष का एक बड़ा अंतर था। मंत्रिस्तरीय और आधिकारिक स्तर की बातचीत अधिक नियमित और पूर्वानुमानित बननी चाहिए;

इन देशों से निवेश आकर्षित करने के लिए ठोस प्रयास करें;

क्रेता-विक्रेता संबंध से आगे बढ़ें, और साझेदार देशों में, और तीसरे देशों में ऊर्जा क्षेत्र में साझेदारी करें;

रक्षा और सुरक्षा - संबंधित बातचीत को मजबूत करें;

उग्रवाद, आतंकवाद, साइबर आतंकवाद और समुद्री डकैती का मुकाबला करने में संयुक्त सहयोग और सूचनाओं के आदान-प्रदान का एजेंडा विकसित करना;

शिक्षा, संस्कृति, मानव संसाधन विकास और चिकित्सा पर्यटन के क्षेत्रों में अन्य क्षेत्रों के साथ नरम शक्ति दृष्टिकोण का सावधानीपूर्वक उपयोग करना;

मेजबान देशों के साथ निकट परामर्श में इस क्षेत्र में बड़े भारतीय समुदाय का कल्याण और सुरक्षा सुनिश्चित करना;

भागीदार देशों के बीच विवादों में पक्ष लेने से बचें;

भारतीय समुदाय के लिए कल्याणकारी उपायों को मजबूत करना। समझ के द्विपक्षीय ज्ञापन को अंतिम रूप दिया गया है, और भारतीय समुदाय कल्याण निधि बनाई गई है;

भारतीय नागरिकों को शोषण से बचाएँ;

भारतीयों के आध्यात्मिक जीवन को सुगम बनाना। इस संदर्भ में हज और उमराह महत्वपूर्ण हैं;

संकट के समय पश्चिम एशिया से भारतीय नागरिकों की तेजी से निकासी की योजनाएँ विकसित करना। इराक़ के 1990 के आक्रमण के बाद कुवैत से लगभग 120,000 भारतीयों को निकाला गया था। भारत सरकार ने खाड़ी युद्ध के दौरान अम्मान के माध्यम से भारतीयों को निकालने के लिए अगस्त से अक्टूबर, 1990 तक 488 उड़ानों की व्यवस्था की। 2006 में लेबनान से भारतीय नागरिकों की निकासी के लिए "ऑपरेशन सेफ होमकमिंग,", 2011 में लीबिया में "ऑपरेशन सुकून" और 2015 में यमन में "ऑपरेशन राहत" किया गया था।

निष्कर्ष

हम राजनीतिक और सुरक्षा चिंताओं को साझा करते हैं, और हमें खाड़ी क्षेत्र में शांति और स्थिरता के साथ-साथ क्षेत्र से गुजरने वाले समुद्री मार्गों की सुरक्षा के लिए प्रयासों में पूल करने की आवश्यकता है। आतंकवाद और कट्टरवाद से आम खतरों के लिए संयुक्त कार्रवाई की आवश्यकता है। क्षेत्र के संघर्ष और अस्थिरता को देखते हुए, भारतीय कूटनीति को व्यावहारिकता, विनम्रता और परिष्कार के साथ पश्चिम एशिया का रुख करना होगा। यह वास्तव में हो रहा है। हमारे यथार्थवादी, विभिन्न सहयोगियों से, सावधान संतुलनों के साथ कई संबंध बना रहे हैं। परिणाम हमारे सामने हैं।

मुझे दिए गए सम्मान के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।