लोक राजनय लोक राजनय

पाकिस्‍तान की उनकी यात्रा के दौरान इस्‍लामाबाद में आयोजित संयुक्‍त मीडिया वार्ता में विदेश मंत्री द्वारा टिप्‍पणी

सितम्बर 08, 2012

भारत के विदेश मंत्री (श्री एस एम कृष्‍णा) : पाकिस्‍तान की विदेश मंत्री महामहिम श्रीमती हिना रब्‍बानी खार, मीडिया से जुड़े मेरे दोस्‍तो, देवियो एवं सज्‍जनो:

मुझे एवं मेरे शिष्‍टमंडल को इस्‍लामाबाद आने के लिए निमंत्रित करने के लिए मैं पाकिस्‍तान की विदेश मंत्री का उदारता से धन्‍यवाद करना चाहता हूँ। पिछले साल जब वह दिल्‍ली आई थी, तो हमने यह निर्णय लिया था कि हमारे दो देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध को आगे बढ़ाने के लिए मृत संयुक्‍त आयोग को पुनरूज्‍जीवित करना होगा। और मैं उन प्रयासों, सकारात्मक प्रयासों की प्रशंसा करता हूँ जो पाकिस्‍तान की विदेश मंत्री ने संयुक्‍त आयोग की बैठकों के पुनरूज्‍जीवन के लिए योगदान किया है।

मैं यहां कल पहुंचा और फिर मैंने राष्‍ट्रपति एवं प्रधान मंत्री से मुलाकात की। मुझे दोनों से मिलने का अवसर प्राप्‍त हुआ तथा मैंने अपने नेतृत्‍व की ओर से शुभकामनाओं एवं पाकिस्‍तान के साथ शांतिपूर्ण एवं सहयोगात्‍मक संबंध की हमारी इच्‍छा से उन्‍हें अवगत कराया। बहुत सौहार्दपूर्ण, खुले, सकारात्‍मक एवं रचनात्‍मक ढंग से आज आयोजित हमारे विचार विमर्श के अंतर्गत सुगठित वार्ता प्रक्रिया की रूपरेखा के अंदर सभी मुद्दे शामिल हुए। सभी मुद्दों का शांतिपूर्ण ढंग से समाधान करने एवं विश्‍वास व परस्‍पर लाभप्रद सहयोग का संबंध निर्मित करने संबंधी हमारे दोनों देशों के नेतृत्‍व की प्रतिबद्धता, तथा हमारे दोनों देशों के लोगों की इच्‍छा से हमने प्रेरणा ली।

हमने अपने द्विपक्षीय संबंधों की वर्तमान स्‍थिति का जायजा लिया। हमारे सामने मौजूदा मुद्दों की जटिलताओं को देखते हुए, हम बहाल वार्ता के पिछले दौर में हुई प्रगति से तर्कसंगत रूप से संतुष्‍ट हैं। हमें इस बात की भी जानकारी है कि लंबा रास्‍ता तय करना है तथा आगे जो रास्‍ता है वह आसान नहीं होगा, परंतु हम अपने संबंध में शांति एवं सहयोग का एक नया अध्‍याय लिखने के लिए आगे बढ़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

हम सहमत हुए कि आतंकवाद शांति एवं सुरक्षा के लिए निरंतर खतरा पैदा कर रहा है, तथा हमने प्रभावी एवं कारगार ढंग से आतंकवाद का सामना करने के लिए दोनों देशों की मजबूत प्रतिबद्धता की पुष्‍टि की ताकि सभी रूपों एवं अभिव्‍यक्‍तियों में इस अभिशाप का उन्‍मूलन हो सके। इस संबंध में, पाकिस्‍तानी पक्ष ने कानून की समुचित प्रक्रिया के अनुसरण में मुंबई आतंकी हमलों के सभी अपराधियों को तेजी से दंडित करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया।

वार्ता प्रक्रिया की दिशा एवं प्रगति का सकारात्‍मक मूल्‍यांकन निम्‍नलिखित में से कुछ घटकों में अभिव्‍यक्‍त होता है। पांच वर्ष के अंतराल के बाद द्विपक्षीय संयुक्‍त आयोग के पूर्ण सत्र का आयोजन हुआ। संयुक्‍त आयोग के आठ तकनीकी स्‍तरीय कार्य समूहों ने कृषि, स्‍वास्‍थ्‍य, शिक्षा, पर्यावरण, तथा विज्ञान एवं पौद्योगिकी समेत विभिन्‍न क्षेत्रों में परस्‍पर सहयोग का पता लगाने के लिए सार्थक चर्चा की।

आज आंतरिक मंत्री महामहिम श्री रहमान मलिक ने तथा मैंने द्विपक्षीय वीजा करार पर हस्‍ताक्षर किया। भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद तथा पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रीय कला परिषद के बीच परस्‍पर सहयोग पर समझौता ज्ञापन पर भी आज हस्‍ताक्षर किए गए। हमने दिसम्‍बर, 2012 के उत्‍तरार्ध में नई दिल्‍ली में परमाणु एवं परंपरागत विश्‍वासोत्‍पादक उपायों पर विशेषज्ञ समूहों की अलग से बैठकें बुलाने का निर्णय लिया।

हमने यात्रा एवं व्‍यपार पर विद्यमान नियंत्रण रेखा पारीय सी बी एम की समीक्षा की, तथा 19 जुलाई, 2012 को इस्‍लामाबाद में इसकी बैठक में नियंत्रण रेखा पारीय सी बी एम पर संयुक्‍त कार्य समूह द्वारा की गई सिफारिशों की पुष्‍टि की। हमने द्विपक्षीय व्‍यापार एवं आर्थिक संबंधों के पूर्णत: सामान्‍य होने की दिशा में हुई प्रगति पर संतोष व्‍यक्‍त किया है, तथा दोनों पक्षों ने इस संबंध में दोनों देशों के वाणिज्‍य मंत्रियों द्वारा तैयार किए गए रोड मैप का कड़ाई से पालन करने की आवश्‍यकता को दोहराया।

चूंकि हमारे संबंध के केन्‍द्र में लोग हैं, इसलिए हमने विभिन्‍न क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के उपायों पर भी चर्चा की जिसमें धार्मिक स्‍थलों के दौरे, मीडिया के आदान - प्रदान, खेल टूर्नामेंट के आयोजन, तथा एक दूसरे के विरूद्ध द्वेषपूर्ण प्रचार बंद करने में सुविधा प्रदान करना शामिल है।

अगले कदम के रूप में, हम सभी आठ सिग्मेंट पर सचिव स्‍तरीय वार्ता का अगला दौर शुरू करने पर सहमत हुए। राजनयिक चैनलों के माध्‍यम से इन बैठकों का कार्यक्रम तैयार किया जाएगा। हम इस बात पर भी सहमत हुए कि 2013 में नई दिल्‍ली में हमारी अगली समीक्षा बैठक से पूर्व ये बैठकें आयोजित की जाएंगी। हम अगले साल नई दिल्‍ली में पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री की आगवानी करने की उम्‍मीद करते हैं।

पाकिस्‍तानी अभिरक्षा में सभी भारतीय मछुआरों को रिहा करने के आश्‍चर्यजनक कार्य के लिए मैं पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति, तथा महामहिम रहमान मलिक, एवं पाकिस्‍तान की विदेश मंत्री को भी अपनी ओर से धन्‍यवाद व्‍यक्‍त करते हुए समाप्‍त करना चाहूंगा, तथा मैं आशा करता हूँ कि उनकी नौकाओं एवं ट्रालर्स को भी साथ-साथ छोड़ दिया जाएगा।

महामहिम, मुझे एवं मेरे शिष्‍टमंडल को प्रदान किए गए शिष्‍टाचार के लिए मैं पुन: आपको धन्‍यवाद देना चाहता हूँ। मैं यहां दो साल पहले आया था। मैं माहौल में साकारात्‍मक परिवर्तन देख रहा हूँ, तथा पाकिस्‍तान में माहौल में यह परिवर्तन लाने के लिए मैं पाकिस्‍तान के वर्तमान नेतृत्‍व तथा पाकिस्‍तान की विदेश मंत्री द्वारा निभाई गई भूमिका को संपूरित करना चाहता हूँ, जो हमारे दोनों देशों के बीच संबंध के लिए शुभ संकेत है। हमें पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहिए, क्‍योंकि आपने बिल्कुल ठीक कहा है कि पीछे जो कुछ घटित हुआ है उसका हमें गुलाम नहीं होना चाहिए। मेरी समझ से, हमें अपनी नजरें भविष्‍य पर रखनी होगी। हमें भविष्‍य की ओर देखना चाहिए। हमें साथ-साथ चलना चाहिए। हमें देखना चाहिए कि हमने जिस नए अध्‍याय की बात की है वह हम दोनों के लिए परस्‍पर लाभप्रद हो। और ऐसा करने के लिए मैं स्‍वयं को तथा भारत को समर्पित करता हूँ, तथा मैं आश्‍वस्‍त हूँ कि यह हम दोनों के लिए सहायक होगा।

धन्‍यवाद।

इस्‍लामाबाद
8 सितम्‍बर, 2012



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code
केन्द्र बिन्दु में
यह भी देखें