लोक राजनय लोक राजनय

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र के समक्ष दुविधा

  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र के समक्ष दुविधा

    प्रत्येक संयुक्त् राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र 1948 की सार्वभौमिक मानवाधिकार घोषणा पर आधारित है जिसका यह सिद्धांत है कि मानव जाति के सम्मा्न और अधिकार आज की प्रत्येक संस्कृति और सभ्यता, धर्म और दर्शन के सिद्धांतों के मामले में जन्मजात रूप से समान हैं।

केन्द्र बिन्दु में
यह भी देखें