मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

प्रश्न सं. 5171 'मदद' योजना

जुलाई 24, 2019

लोक सभा
अतारांकित प्रश्न सं. 5171
24.07.2019 को उत्तर दिए जाने के लिए

'मदद' योजना

5171. श्री के. मुरलीधरन:

क्या विदेश मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि:

(क) क्या विदेश मंत्रालय की 'मदद' वेबसाइट पर विदेशों में फंसे भारतीयों की स्वदेश वापसी से संबंधित मुद्दे पर अद्यतन की स्थिति खराब है;

(ख) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है और इसके क्या कारण हैं;

(ग) विदेशों में फंसे भारतीयों को सहायता के मुद्दे पर संसद सदस्यों के अनुरोध पर विदेश मंत्रालय तथा विदेशों में स्थित भारतीय मिशन में तैनात कर्मचारियों द्वारा समय से प्रतिक्रिया नहीं देने का क्या कारण है;

(घ) क्या सरकार ने इस क्षेत्र को सहायता प्रदान करने हेतु उचित और समय पर सूचना के प्रवाह के प्रबंधन में डिजिटल इंडिया पहल की अवधारणा का उल्लंघन नहीं किया है; और

(ङ) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है?

उत्तर
(विदेश राज्य मंत्री)
(श्री वी. मुरलीधरन)

(क) और (ख) जी नहीं। फरवरी 2015 में शुरू किए गए मदद पोर्टल में दुनिया भर में रहने वाले भारतीयों की शिकायतों के ऑनलाइन पंजीकरण करने, शिकायतों की स्थिति की जानकारी देने और उनका निवारण पारदर्शी, समयबद्ध और जिम्मेदारीपूर्ण तरीके से किए जाने की व्यवस्था है। मदद के माध्यम से शिकायतों की स्थिति की जानकारी प्राप्त करने और उन पर निगरानी रखने से सभी प्रवासी भारतीयों की शिकायतों का हल करने और उनका समाधान करने की प्रणाली अत्यधिक मजबूत हुई है।

फरवरी 2015 से 15 जुलाई, 2019 तक मदद पर विदेशों में संकटग्रस्त स्थितियों में फंसे भारतीयों के प्रत्यावर्तन से संबंधित शिकायतों सहित कुल 50,327 शिकायतें दर्ज की गईं, जिनमें से 44,188 शिकायतों का सफलतापूर्वक समाधान किया गया है, जिससे मदद पर दर्ज शिकायतों की समाधान दर लगभग 90% हो गई है। जिन मामलों में अंतिम समाधान नहीं हुआ है, उनमें से ज्यादातर का कारण शिकायतकर्ताओं द्वारा प्रस्तुत की गई अधूरी जानकारी; विदेशी प्रायोजकों / नियोक्ताओं का गैर-सहयोगात्मक रवैया; न्यायालयी मुकदमों में मिशनों/ केंद्रों की सीमित भूमिका; और कतिपय मामलों में स्थानीय प्राधिकारियों की जांच जारी रहना है।

(ग) मंत्रालय और विदेश स्थित हमारे मिशन और केंद्र मदद पर पंजीकृत शिकायतों के समाधान को उच्च प्राथमिकता देते हैं और प्रतिक्रियाओं का वास्तविक समय आधार पर पता लगाया जाता है और उनकी मॉनिटरिंग की जाती है। यदि समय पर जवाब नहीं दिया गया है तो शिकायतों को उच्च स्तरों तक बढ़ाने के लिए एक अंतर्निहित प्रणाली है। माननीय संसद सदस्यों से प्राप्त शिकायतों को उच्च प्राथमिकता देते हुए उन पर तुरंत कार्रवाई की जाती है आैर इनका उत्तर दिया जाता है और ऐसे मामलों की पहचान करने और उन पर निगरानी के लिए मदद में एक अंतर्निहित प्रणाली है।

(घ) और (ङ) जी नहीं। मदद डिजिटल इंडिया के तहत विदेश मंत्रालय की प्रमुख पहलों में से एक है और यह एक एकीकृत डिजिटल प्लेटफॉर्म है जो वेबसाइटों, आईओएस और एंड्रॉइड सहित मोबाइल आधारित प्लेटफार्मों के साथ-साथ ईमेल और टेक्स्ट संदेशों तक निर्बाध रूप से उपलब्ध है और शिकायतों के समय पर निपटान की दृष्टि से उपयोगकर्ताओं को प्रारंभ से अंत तक डिजिटल ट्रैकिंग और निगरानी की सुविधा प्रदान करता है।

***

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code


यह भी देखें