मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

प्रधानमंत्री की ब्राजील यात्रा पर सचिव (पूर्वी क्षेत्र) द्वारा विशेष ब्रीफिंग का प्रतिलेख (13-14 नवंबर, 2019)

नवम्बर 14, 2019

मीडिया के गणमान्य सदस्य, मेरे प्यारे मित्रों,

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 11वे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्राजील की यात्रा के बारे में जानकारी देने हेतु आपका स्वागत है।

प्रधानमंत्री एक आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल के साथ आए हैं। भारत का एक बड़ा व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद है, जिसने कल ब्रिक्स व्यापार मंच में भाग लिया, जिसमे सभी पाँच देशों के व्यापारिक समुदाय का प्रतिनिधित्व किया गया है।

इस वर्ष ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का विषय "आर्थिक विकास एक अभिनव भविष्य के लिए" है। प्रधानमंत्री कल ब्रासीलिया पहुंचे। यह प्रधानमंत्री की ब्राजील की दूसरी यात्रा है। उन्होंने चीन, ब्राजील और रूस के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। आपको पहले ही द्विपक्षीय संबंधों पर जानकारी दी जा चुकी है।

बाद में, प्रधानमंत्री अन्य ब्रिक्स नेताओं के साथ शाम को ब्रिक्स व्यापार मंच के समापन समारोह में शामिल हुए। इसके बाद, महामहिम राष्ट्रपति बोल्सनारो ने एक सांस्कृतिक कार्यक्रम से पहले सभी नेताओं के लिए एक स्वागत रात्रि-भोज का आयोजन किया।

आज सुबह, एक फोटो सत्र के बाद, ब्रिक्स प्रतिबंधित सत्र आयोजित किया गया, जो एक गोपनीय सत्र था। इस सत्र के दौरान विचार-विमर्श में समकालीन विश्व में राष्ट्रीय संप्रभुता के अभ्यास के लिए चुनौतियों और अवसरों पर ध्यान केंद्रित किया गया। प्रधानमंत्री नेअपने वक्तव्य में, एक नियम-आधारित विश्व व्यवस्था के महत्व को रेखांकित किया जो विविधता और समानता का सम्मान करता है और एकतरफा नीतियों या बल के उपयोग को बढ़ाता है।

उन्होंने आतंकवाद सहित कई प्रकार की संप्रभुता की चुनौतियों पर जोर दिया, जो राष्ट्र को कमजोर करती हैं, जो प्रौद्योगिकी पर प्रभाव डालती हैं, विशेष रूप से संप्रभुता पर डिजिटल प्रौद्योगिकी पर और इसके द्वारा प्रदत्त चुनौतियां और अवसर, संप्रभुता को मजबूत किए बिना उचित शर्तों पर विकास सहयोग के महत्व पर बल देना और उस संदर्भ में एक-दूसरे की संप्रभुता का सम्मान करने की आवश्यकता शामिल है।

ब्रिक्स पूर्ण सत्र के बाद प्रतिबंधित सत्र का आयोजन किया गया जहां नेताओं ने ब्रिक्स संस्थाओं के आर्थिक विकास के लिए इंट्रा-ब्रिक्स सहयोग पर चर्चा की। प्रधानमंत्री ने नवाचार ब्रिक्स नेटवर्क (iBRICS), ब्रिक्स न्यू एस, टी एंड आई आर्किटेक्चर, ब्रिक्स इंस्टीट्यूट ऑफ फ्यूचर नेटवर्क्स और महिलाओं के व्यापारिक संबंधों की स्थापना सहित कई क्षेत्रों में प्रदेयों का ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में स्वागत किया। उन्होंने वस्तुओं और सेवाओं में इंट्रा-ब्रिक्स व्यापार पर विशेष जोर दिया और ब्रिक्स संयुक्त वक्तव्य के सुधारित बहुपक्षवाद पर अपना ध्यान केंद्रित करने का समर्थन किया।

प्रधानमंत्री द्वारा की गई कुछ महत्वपूर्ण घोषणाओं में निम्नलिखित शामिल हैं :

(i) भारत स्वस्थ जीवन शैली के लिए अभिनव समाधान पर ब्रिक्स डिजिटल स्वास्थ्य शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा। यह प्रधानमंत्री द्वारा शुरू किए गए "फिट इंडिया मूवमेंट" को ध्यान में रखते हुए होगा। डिजिटल हेल्थ समिट में स्वास्थ्य आसूचना और नैदानिक के साथ-साथ डिजिटल टेक्नोलॉजी को एकीकृत करने का प्रयास किया जाएगा।

(ii) प्रधानमंत्री ने पारंपरिक चिकित्सा पर आयोजित कार्यशालाओं के निर्माण और पारंपरिक चिकित्सा पर एक ब्रिक्स समझौता ज्ञापन करने की अपनी मंशा की घोषणा की। जैसा कि आप जानते हैं, यह एक पहल है जिसे 2016 में भारत के राष्ट्रपति की अध्यक्षता में किया गया था।

(iii) सतत जल प्रबंधन पर एक और पहल की गई। प्रधानमंत्री ने भारत में पहली ब्रिक्स जल मंत्रियों की बैठक की मेजबानी करने की पेशकश की है।

(iv) चूंकि भारत फिल्म निर्माण और तकनीक में विश्व में अग्रणी रहा है। भारत मार्च, 2020 में मुंबई में फिक्की-फ्रेम्स के संयोजन में ब्रिक्स फिल्म प्रौद्योगिकी संगोष्ठी की मेजबानी करेगा।

(v) ब्रिक्स में आतंकवाद पर ध्यान केंद्रित करना एक महत्वपूर्ण क्षेत्र रहा है और जैसा कि आप जानते हैं, ब्राजील ने आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए रणनीति पर पहले ब्रिक्स सेमिनार की मेजबानी की। ब्रिक्स ने आतंकवाद पर 5 उप कार्य समूह भी बनाए हैं। प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि भारत डिजिटल फॉरेंसिक पर ब्रिक्स कार्यशाला की मेजबानी करेगा।

(vi) प्रधानमंत्री ने यह भी उल्लेख किया कि भारत स्टार्ट अप, हैकथॉन, खेलों आदि जैसे क्षेत्रों पर ध्यान देने के साथ ब्रिक्स युवा शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा। यह 2016 में हमारे राष्ट्रपति की अध्यक्षता के दौरान भारत द्वारा किए गए लोगों से लोगों की पहल को ध्यान में रखते हुए है, जिसका स्वागत किया गया है और जो पिछले कुछ ब्रिक्स अध्यक्षता पर बना हुआ है।

(vii) प्रधानमंत्री ने सभी ब्रिक्स देशों के छात्रों के लिए ब्रिक्स इंटर्नशिप और फेलोशिप कार्यक्रम शुरू करने की अपनी मंशा की घोषणा की।

इसके बाद, ब्रिक्स व्यापार परिषद और न्यू डेवलपमेंट बैंक के साथ ब्रिक्स नेताओं की बैठक हुई। ब्राजील के ब्रिक्स व्यापार परिषद के अध्यक्ष ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की। न्यू डेवलपमेंट बैंक के अध्यक्ष ने भी अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की। प्रधानमंत्री ने दोनों मोर्चों पर होने वाले सकारात्मक विकास का स्वागत किया और इस संदर्भ में कई सुझाव दिए।

शिखर सम्मेलन के समापन पर, नेताओं ने एक संयुक्त घोषणा पत्र जारी किया।

प्रधानमंत्री ब्राजील के राष्ट्रपति द्वारा आयोजित दोपहर के भोज में भाग लेंगे जिसके बाद वे भारत के लिए रवाना होंगे।

इससे मेरी टिप्पणी समाप्त होती है।

धन्यवाद।

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code