मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

30 जुलाई 2020 को वर्चुअल साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान भारत-चीन एलएसी विघटन (डिसइंगेजमेंट) पर आधिकारिक प्रवक्ता का वक्तव्य

जुलाई 30, 2020

जैसा कि कार्य तंत्र की 17वीं बैठक के बाद हमारे द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि दोनों पक्षों ने पश्चिमी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के संबंध में भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में स्थिति की समीक्षा की। दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति जताई है कि द्विपक्षीय समझौते और प्रोटोकॉल के अनुसार वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सैनिकों का पूरी तरह से पीछे हटना तथा भारत चीन सीमा पर तनाव खत्म करना और शांति कायम करना द्विपक्षीय संबंधों के संपूर्ण विकास सुनिश्चित करने के लिये आवश्यक है। यह दो विशेष प्रतिनिधियों, एनएसए और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच 5 जुलाई 2020 को बातचीत के दौरान हुए समझौते के अनुसार था।

इस दिशा में कुछ प्रगति हुई है, लेकिन अभी तक सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है। इस संबंध में जरुरी कदम उठाने हेतु दोनों पक्षों के वरिष्ठ कमांडर जल्द ही बैठक करेंगे।

जैसा कि हमने पहले कहा है, सीमा क्षेत्रों में शांति बनाये रखना हमारे द्विपक्षीय संबंधों का आधार है। इसलिए, हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष सैनिकों के पूरी तरह से पीछे हटने तथा डी-एस्केलेशन और सीमा क्षेत्रों में पूरी तरह से शांति बहाल करने हुए शीघ्र हमारे साथ मिलकर काम करेगा, जैसी कि पहले विशेष प्रतिनिधियों द्वारा सहमति व्यक्त की गई थी।

नई दिल्ली
30 जुलाई, 2020

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code