यात्रायें यात्रायें

यूके की अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा प्रेस वक्‍तव्‍य (12 नवंबर, 2015)

नवम्बर 12, 2015

प्रधानमंत्री डेविड कैमरन,
मीडिया के सदस्‍यों,


इस संबंध पर आपके विजन तथा आपकी स्‍नेहपूर्ण भावनाओं के लिए, प्रधानमंत्री,आपका धन्‍यवाद। इस साझेदारी को सुदृढ़ करने के लिए आपने जो किया है उसके लिए भी आपका धन्‍यवाद।

मैं आमंत्रण तथा अतिथि सत्‍कार के लिए तथा यहां मेरी यात्रा के दौरान आप द्वारा उदारता से दिए गए समय के लिए भी आपका धन्‍यवाद करता हूं।

यूनाइटेड किंगडम का दौरा करके मैं बहुत प्रसन्‍न हूं। यह संबंध हमारे लिए बेहद महत्‍वपूर्ण है। इतिहास से परिचय, असाधारण जन दर जन संपर्क तथा हमारे साझे मूल्‍य इसे एक विशेष चरित्र प्रदान करते हैं। अनेक क्षेत्रों में हमारे बीच जीवंत एवं बढ़ती साझेदारी भी है - व्‍यापार एवं निवेश, रक्षा एवं सुरक्षा, विज्ञान एवं शिक्षा,स्‍वच्‍छ ऊर्जा एवं स्‍वास्‍थ्‍य, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार तथा संस्‍कृति। अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर हमारे व्‍यापक साझे हित हैं जो हमारे दोनों देशों के लिए महत्‍वपूर्ण हैं।

हम अपनी राजनीतिक वार्ता को गहन करने और नियमित आधार पर द्विपक्षीय शिखर बैठकों का आयोजन करने के लिए सहमत हुए हैं। हमने विश्‍व के अन्‍य क्षेत्रों में विकास की मदद करने के लिए अपने साझे मूल्‍यों को साझेदारी में परिवर्तित करने का निर्णय लिया है। और हमने सभी क्षेत्रों में सहयोग को गहन करने की प्रतिबद्धता की है।

असैन्‍य परमाणु करार पर निर्णय जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए हमारे परस्‍पर विश्‍वास एवं हमारे संकल्‍प का प्रतीक है। स्‍वच्‍छ ऊर्जा साझेदारियों के लिए भारत के वैश्विक केन्‍द्र में सहयोग के लिए करार से वैश्विक परमाणु उद्योग में सुरक्षा एवं संरक्षा सुदृढ़ होगी।

हम यूके के साथ रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग को बहुत महत्‍व देते हैं जिसमें नियमित अभ्‍यास तथा रक्षा व्‍यापार एवं सहयोग शामिल हैं। यह सहयोग बढ़ेगा। मुझे इस बात की भी प्रसन्‍नता है कि यूके फरवरी, 2016 में भारत में अंतर्राष्‍ट्रीय बेड़ा समीक्षा में भाग लेगा। यूके भारत की रक्षा आधुनिकीकरण की योजनाओं में भी एक मजबूत साझेदार होगा जिसमें रक्षा क्षेत्र में हमारा मेक इन इंडिया मिशन शामिल है।

हमारी आर्थिक साझेदारी बहुत मजबूत है तथा यह हमारे संबंध का एक प्रमुख स्‍तंभ है। मैंने विश्‍वास व्‍यक्‍त किया कि तेजी से विकास कर रहे भारत में अवसरों के आकार एवं आयाम तथा ब्रिटने की अपनी मजबूत आर्थिक ताकतों को देखते हुए आने वाले वर्षों में यह संबंध तेजी से विकास करेगा। यूके पहले से ही भारत में तीसरा सबसे बड़ा निवेशक है। संयुक्‍त रूप में शेष यूरोपीय संघ की तुलना में यूके में भारत से निवेश अधिक है। हम भारत में यूके निवेशों के लिए एक नया फास्‍ट ट्रैक मैकनिज्‍म शुरू करेंगे। भारत - यूके सी ई ओ फोरम की बहाली एक स्‍वागत योग्‍य कदम है।

हम लंदन के वित्‍तीय बाजारों में भी अधिक धन जुटाएंगे। मुझे इस बात की प्रसन्‍नता है तथा विश्‍वास भी है कि यह स्‍वाभाविक भी है कि हम लंदन में रेलवे रूपया बांड जारी करेंगे। यहीं से भारतीय रेलवे की यात्रा शुरू हुई।

मैं अगले कुछ दिनों में व्‍यवसाय क्षेत्र के साथ अपने कार्यक्रमों की उत्‍सुकता से प्रतीक्षा कर रहा हूं। और हम आशा करते हैं कि व्‍यवसाय क्षेत्र के लिए महत्‍वपूर्ण घोषणाएं होंगी।

हमारी सरकारों तथा निजी क्षेत्र को शामिल करते हुए स्‍वच्‍छ ऊर्जा तथा जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में हमारे सहयोग में जो प्रगति हुई है उससे मैं प्रसन्‍न हूं। यह ऐसा क्षेत्र है जो बेहद महत्‍वपूर्ण है तथा प्रचुर अवसर हैं। हमारा द्विपक्षीय सहयोग जलवायु परिवर्तन पर भारत की व्‍यापक एवं महत्‍वाकांक्षी राष्‍ट्रीय योजना को संपूरित करेगा। हम जलवायु परिवर्तन पर संयुक्‍त राष्‍ट्र अभिसमय की रूपरेखा के अंदर पेरिस में ठोस परिणाम की आशा रखते हैं जो विश्‍व के लिए संपोषणीय एवं न्‍यून कार्बन भविष्‍य का निर्णायक पथ तैयार करेगा।

हमने अन्‍य क्षेत्रों में मूर्त परिणाम प्राप्‍त किए हैं जो सभी भारत की राष्‍ट्रीय प्राथमिकताओं के अंग हैं। इनमें स्‍मार्ट शहर, स्‍वास्‍थ्‍य देखरेख, स्‍वच्‍छ नदी पहल,कौशल एवं शिक्षा शामिल हैं। वास्तव में हमारे बीच इस बात पर सहमति हुई है कि प्रौद्योगिकी, अनुसंधान एवं नवाचार सभी क्षेत्रों में हमारी साझेदारी का मजबूत आधार होगा।

हमारी साझेदारी से न केवल अवसरों का सृजन होगा तथा हमारे लोगों की समृद्धि में वृद्धि होगी अपितु यह हमारे अनेक साझे हितों को आगे बढ़ाने तथा हमारी चुनौतियों से निपटने के लिए हमारे दोनों देशों की क्षमताओं को भी सुदृढ़ करेगा। इनमें एशिया, विशेष रूप से दक्षिण एशिया एवं पश्चिम एशिया में शांति एवं स्थिरता; समुद्री सुरक्षा; साइबर सुरक्षा; और निश्चित रूप से आतंकवाद एवं अतिवाद शामिल हैं।

प्रधानमंत्री कैमरन तथा मैं आज और कल चेकर्स में इन मुद्दों पर तथा अन्‍य मुद्दों पर अपनी चर्चा जारी रखेंगे।

परंतु समाप्‍त करने से पूर्व मैं संशोधित संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्‍थायी सदस्‍यता तथा अंतर्राष्‍ट्रीय निर्यात नियंत्रण व्‍यवस्‍थाओं में भारत की सदस्‍यता के लिए ब्रिटेन के मजबूत समर्थन के लिए प्रधानमंत्री कैमरन का धन्‍यवाद करना चाहता हूं।

मैं संसद में बोलने तथा भारत - यूके व्‍यवसाय शिखर बैठक को संबोधित करने के सम्‍मान की उत्‍सुकता से प्रतीक्षा कर रहा हूं, जहां मुझे इस संबंध के मजबूत आधार के बारे में विस्‍तार से बोलने का अवसर प्राप्‍त होगा।

आज हमने अपनी सामरिक साझेदारी के लिए एक निर्भीक एवं महत्‍वाकांक्षी विजन रेखांकित किया है। आज हमने जो निर्णय लिए हैं वे इसे आगे बढ़ाने की हमारी दृढ़ प्रतिबद्धता तथा इसे प्राप्‍त करने में हमारे आत्‍मविश्‍वास को दर्शाते हैं। वास्‍तव में आज के परिणाम हमारे संबंध को पहले ही एक नई ऊंचाई पर पहुंचा चुके हैं।

धन्यवाद।


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code