यात्रायें यात्रायें

सामुदायिक स्वागत समारोह में भारत के राष्ट्रपति, श्री राम नाथ कोविंद का वक्तव्य

जून 20, 2018

  • मुझे सूरीनाम आकर अत्यंत प्रसन्नता हो रही है। मुझे भारत से आपके सुंदर देश की पहली राजकीय यात्रा पर आने का सम्मान मिला है। सूरीनाम से शुरू होने वाली दक्षिण अमेरिका की मेरी यह यात्रा कोई संयोग नहीं है। हमारे विशेष संबंधों की उष्मा और निकटता मुझे सबसे पहले आपके देश में ले आई है और इसे इस यात्रा का सबसे महत्वपूर्ण गंतव्य बना दिया है।
  • जब से मैं इस उष्णकटिबंधीय स्वर्ग "अमेज़ॅन के धड़कते दिल" में पहुंचा हूँ, आपके प्यार और स्नेह ने मुझे आपका कृतज्ञ बना दिया है।
  • देवियों और सज्जनों, बहादुर पुरुष और महिलाएँ राष्ट्र का निर्माण करते हैं। लेकिन सुरीनाम का निर्माण करने वाले लोगों में दृढ़ संकल्प और दृढ़ साहस सामान रूप से मौजूद थे। यह कोई यादृच्छिक विचार नहीं हैं बल्कि मेरी स्थिर भावनाएं हैं जिन्होंने आज सुबह पवित्र मामा श्रानन और बाबा और माई स्मारकों के दर्शन के बाद से अनुभूत कर रखा है। जेनी टेटरी की कहानी और आपके शहीद नायकों के बलिदान ने मुझे भारत की आजादी के संघर्ष की याद दिला दी - दमन, दासता और गुलामी से आजादी।
  • और जिसने इस संघर्ष में हमारा नेतृत्व किया वे महात्मा गांधी, हमारे राष्ट्रपिता थे। वे सिर्फ हमसे नहीं, बल्कि पूरी मानवता से जुड़े है। यह देखकर हम सम्मान का अनुभव करते हैं कि आपने उनकी विरासत को अपने आस-पास संरक्षित किया है। मैंने सूरीनाम की यात्रा की इसलिए मुझे उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का मौका मिला। इस वर्ष के अंत में, हम उनकी 150वीं जयंती पर सूरीनाम सहित पूरे विश्व में उत्सव मनाएंगे। हम अपने जीवन और उसकी विरासत पर पुनर्विचार करने के लिए आपका समर्थन चाहते हैं।
  • देवियों और सज्जनों, आपके सुंदर देश में आने के बाद से, मुझे आपकी जैव विविधता ने प्रभावित किया है, पर आपके लोगों की विविधता, आपके समृद्ध इतिहास और संस्कृति से मैं उससे भी अधिक प्रभावित हूँ। आप बहुत से लोग, लेकिन एक राष्ट्र हैं।
  • क्रेओल्स, जावानीज, चीनी, हिंदुस्तानी, मारून और अमेरिडियनों सभी ने अपनी सुंदरता से इस इंद्रधनुष को सजाया है। मामा स्रानन अपने सभी बच्चों को प्यार से अपनी गोद में जगह देती है, जिससे प्रत्येक को बराबर देखभाल और सम्मान मिलता है। आपकी राष्ट्रीय भावना महात्मा गांधी के उस प्रसिद्ध कथन की गूंज है, और मैं उसे उद्धृत कर रहा हूँ - "मैं नहीं चाहता कि मेरे घर को दीवारों से घेर दिया जाए और इसकी सभी खिड़कियां मूंद दी जाएं। मैं चाहता हूं कि सभी देशों की संस्कृति मेरे घर में जितनी जल्दी हो सके आए। लेकिन मैं उनमें से किसी को भी अपने पैरों को उखाड़ने की इजाजत देने से इंकार करता हूँ”।
  • हिंदुस्तान समुदाय सुरीनामी बुनावट का एक रंगीन हिस्सा है। वे यहां बड़ी संख्या में दिखाई देते हैं। वे अपने पूर्वजों की कोलकाता से पैरामारिबो तक की कठिन यात्रा की उन कहानियों से प्रेरणा लेते हैं, जो उनके दिल के करीब हैं। वे बाबा और माई के चरणों में नतमस्तक होते हैं, उनके अतीत, उनके गौरव और उनके इतिहास का अनुसरण करते हैं। ये भारत में भी लाखों लोगों को प्रेरित करते हैं। कोलकाता में बना बाबा और माई का स्मारक, पैरामारिबो के स्मारक की सटीक प्रतिकृति है, जो हमारे नाल से जुड़े संपर्कों का प्रमाण है।
  • मुझे खुशी है कि हिंदुस्तानी समुदाय ने अपने को सुरीनामी समाज में खूबसूरती से आत्मसात किया है और इसके बावजूद अपनी परंपराओं और संस्कृति को जीवित रखा है और संरक्षित किया है। संगीत, कला या भाषा हर क्षेत्र में भारत के सर्वश्रेष्ठ पर यहां गर्व किया जाता है। और सर्वश्रेष्ठ भारतीय सिनेमा का सभी आनंद लेते हैं।
  • कल, हम एक भारतीय सांस्कृतिक केंद्र की नींव रखेंगे। यह हिंदुस्तानी संगीत और संस्कृति के प्रचार के लिए समर्पित होगा। मुझे आशा है कि अन्य समुदाय भी इसकी यात्रा और सफलता में शामिल होंगे।
  • देवियों और सज्जनों, मुझे खुशी है कि आप इस देश में भारतीयों के आगमन की 145वीं वर्षगांठ मना रहे हैं। लेकिन मेरे लिए यह जानकारी अत्यंत प्रेरणादायक है कि सुरीनामी समाज का प्रत्येक सदस्य इस उत्सव में भाग ले रहा है। और आप केवल अपने समुदायों के अनुरूप नहीं बल्कि प्रकृति के अनुरूप जी रहे हैं। मुझे बताया गया है कि आपका देश दुनिया में सबसे अधिक हरियाली युक्त देश है। यहाँ के जंगलों और नदी घाटियों में गहरी, सदियों पुरानी बुद्धि और पारंपरिक ज्ञान मौजूद है। हमें उन्हें अपने आधुनिक जीवन में वापस लाना चाहिए। मुझे खुशी है कि आप सूरीनाम में राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस मनाते हैं। आज, हम पारंपरिक दवाओं और पौधों के क्षेत्र में सहयोग करने के लिए सहमत हुए हैं। मुझे आशा है कि हम सुरीनाम और भारत को सर्वश्रेष्ठ तरीके से करीब लाने में सफल होंगे।
  • देवियों और सज्जनों, समान राजनीतिक विचारधारा वाले दो विकासशील देशों के रूप में, हम साथ-साथ विकसित हुए हैं। आज सुबह हमने अपनी साझेदारी को और बढ़ाने के लिए सहमति व्यक्त की है। हम आपके विकास और प्रगति के लिए सूरीनाम के साथ अपनी विशेषज्ञता को साझा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसी भावना से हम सौर ऊर्जा परियोजनाओं के विकास में आपकी सहायता करने के इच्छुक हैं। हमें उम्मीद है कि ये दिन और रात जल्द ही अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन के तहत हमारी साझेदारी के चमकीले उदाहरण बनकर चमकेंगे।
  • राष्ट्रपति महोदय, भारत के पास बताने के लिए कई उज्ज्वल कहानियां हैं। हम दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था हैं। भारत की तस्वीर तेजी से बदल रही है। स्मार्ट सिटीज से डिजिटल राजमार्गों तक, कृत्रिम बुद्धिमत्ता से बिग डेटा तक, स्वच्छ ऊर्जा मार्गों से इलेक्ट्रिक-गतिशीलता तक, भारत में बहुत कुछ हो रहा है। आइए हम अपने युवाओं, हमारे विश्वविद्यालयों और हमारे शोध समुदायों के बीच सहयोग के नए नेटवर्क बनाएं। प्रौद्योगिकी और नवाचार में स्थायी परिवर्तन और हमारे जंगलों के प्रबंधन में जलवायु परिवर्तन के समाधान प्रदान करने की असीमित शक्ति है। आइए हम अपने लोगों की प्रगति और समृद्धि के लिए मिलकर काम करें।
  • भारत दुनिया को एक टिकाऊ, सुरक्षित और स्वस्थ विकल्प प्रदान करने के लिए नेतृत्व कर रहा है। हमारे प्रयासों से संयुक्त राष्ट्र ने हर साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए सर्वसम्मति से एक संकल्प अपनाया। कल, 21 जून, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस है। मुझे खुशी है कि राष्ट्रपति बेटरेसे इन समारोहों में मेरे साथ भाग लेंगे। 2015 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस विशेष दिवस की घोषणा करने के बाद पहली बार दो राष्ट्र प्रमुख एक साथ योग दिवस मनाएंगे।यह वास्तव में ऐतिहासिक होगा। योग एक प्राचीन प्रथा है जो शारीरिक और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ावा देती है। यह आपके विचार और कार्य के बीच, आपके दिमाग और शरीर के बीच संतुलन लाने से संबंधित है। हमारी इस यात्रा में हमसे जुड़ें, यह यात्रा आपकी, वास्तव में, पूरी मानवता की भी उतनी ही अपनी है और मैं कल पैरामारिबो में योग दिवस की गतिविधियों में आपकी भागीदारी चाहता हूँ।
  • राष्ट्रपति महोदय, देवियों और सज्जनों, मैं आपकी भाषाई विविधता पर चकित हूँ। हम भारतीयों की सराहना करते हैं क्योंकि हम स्वयं सैकड़ों भाषाएं और बोलियां बोलते हैं। मुझे सूचित किया गया है कि डच और स्रानन-टोंगो के अलावा, आप 20 अलग-अलग भाषाएं बोलते हैं। तो मुझे भी कुछ भाषाओ में बोलने की कोशिश करनी चाहिए। इस देश में हिंदुस्तानियों द्वारा हिंदी को संरक्षित करने के सम्मान में, मैं हिंदी में कुछ शब्द कहना चाहूंगा: भाइयों और बहनों, आप सब से मिलकर मुझे सचमुच बहुत खुशी हो रही है। यह बडे ही सम्मान की बात है कि आपने यहां हिंदी को जीवित रखा है। मैं गर्व से कह सकता हूँ कि इस नाते आप सब सूरीनाम में भारत की भाषा और संस्कृति को यहां के विभिन्न समुदायों के बीच फैलाने का काम बखूबी कर रहे हैं। इस प्रकार आपने अपने पूर्वजों की स्मृति को भी जीवित बनाए रखा है। इसके लिए आप सब बधाई के पात्र हैं। मैं आप सबसे आग्रह करता हूँ कि इस कार्य को इसी तरह जारी रखिए। मैं कामना करता हूँ कि यह उत्साहपूर्ण वातावरण सदैव कायम रहे।
  • और अब स्रानन-टोंगों में कुछ शब्दः ब्रादा आंगा सीसा में टैग उनु ग्रान तांगी, में विंस उन वान स्वीट नेति गो मोरो फारा।
धन्यवाद।


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code