मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

प्रधानमंत्री की म्यांमार की स्टेट काउंसलर के साथ मुलाकात

नवम्बर 03, 2019

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 03 नवंबर, 2019 को आसियान-भारत शिखर सम्मेलन के दौरान म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की से मुलाकात की। सितंबर 2017 में म्यांमार की अपनी अंतिम यात्रा और जनवरी 2018 में आसियान-भारत स्मारक शिखर सम्मेलन के दौरान स्टेट काउंसलर की भारत यात्रा को याद करते हुए नेताओं ने दोनों देशों के बीच महत्वपूर्ण भागीदारी की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया।

प्रधानमंत्री ने भारत की लुक ईस्ट पॉलिसी और पड़ोस पहले नीतियों के चौराहे पर एक भागीदार के रूप में म्यांमार को प्राथमिकता देने पर बल दिया। इस उद्देश्य के लिए, उन्होंने सड़क, बंदरगाह और अन्य बुनियादी ढांचे के निर्माण सहित म्यांमार और उसके माध्यम से दक्षिण पूर्व एशिया के लिए भौतिक संपर्क में सुधार करने के लिए भारत की सतत प्रतिबद्धता पर बल दिया। भारत म्यांमार की पुलिस, सैन्य और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ-साथ इसके छात्रों और नागरिकों के लिए क्षमता के विस्तार का भी पुरजोर समर्थन करता रहेगा। नेताओं ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि लोगों से संपर्क करने से भागीदारी के आधार को बढ़ाने में मदद मिलेगी और इसलिए दोनों देशों के बीच हवाई संपर्क के विस्तार और म्यांमार में भारत के कारोबार की बढ़ती रुचि का स्वागत किया। नवंबर 2019 के अंत में यांगून में सीएलएमवी देशों (कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम) के लिए एक व्यावसायिक कार्यक्रम की मेजबानी करने के लिए भारत सरकार ने पेशकश की।

स्टेट काउंसलर डाव सू की ने भारत के साथ भागीदारी से जुड़ी उनकी सरकार के महत्व की पुन पुष्टि की और म्यांमार में लोकतंत्र के विस्तार और विकास को मजबूत करने के लिए भारत के लगातार और निरंतर समर्थन की सराहना की।

दोनों नेता इस बात पर सहमत हुए कि हमारी भागीदारी के निरंतर विस्तार के लिए एक स्थिर और शांतिपूर्ण सीमा एक महत्वपूर्ण लंगर है। प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि विद्रोही गुटों को भारत-म्यांमार सीमा पर काम करने के लिए जगह न मिल सके।

राखिन में स्थिति के संबंध में, 250 पूर्वनिर्मित घरों के निर्माण के लिए पहली भारतीय परियोजना के पूरा होने के बाद- जो इस जुलाई में म्यांमार सरकार को सौंप दिया गया था - इस राज्य में प्रधानमंत्री ने अधिक सामाजिक-आर्थिक परियोजनाओं को पूरा करने के लिए भारत की तत्परता व्यक्त की। प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि राखीन राज्य में विस्थापित लोगों के बांग्लादेश से अपने घरों में जाने के लिए सुरक्षित और स्थायी वापसी, विस्थापितों और सभी तीन पड़ोसी देशों: भारत, बांग्लादेश और म्यांमार के हितों में थी।

दोनों नेताओं ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि सहयोग के सभी स्तंभों में मजबूत संबंध दोनों देशों के मौलिक हितों में हैं।

बैंकॉक
नवंबर 03, 2019
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code