हमारे बारे में हमारे बारे में

संजीव अरोड़ा, सचिव (सीपीवी एवं ओआईए)

संजीव अरोड़ा, सचिव (सीपीवी एवं ओआईए)श्री संजीव अरोड़ा ने 25 फरवरी, 2019 को सचिव [कांसुलर, पासपोर्ट एवं वीजा और प्रवासी भारतीय मामले] का पदभार संभाला। उनकी आखिरी तैनाती दिसंबर, 2016- फरवरी, 2019 तक लेबनान में भारत के राजदूत के रूप में थी।

श्री संजीव अरोड़ा 1984 में भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) में शामिल हुए और मुख्यालय और विदेशों में विभिन्न क्षमताओं में सेवा की। लेबनान में तैनाती से पहले, उन्होंने अक्टूबर-दिसंबर 2016 तक विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली में अतिरिक्त सचिव, अगस्त 2012-अक्टूबर 2016 तक कतर में राजदूत और नवंबर 2008-जुलाई 2012 तक अमेरिका के ह्यूस्टन, टेक्सास में महावाणिज्यदूत के रूप में कार्य किया। उनकी पहली तैनाती मिस्र (1985-88) में हुई जहां उन्होंने अरबी भाषा सीखी। उन्होंने सऊदी अरब (1988-1991), जर्मनी (1994-1998), श्रीलंका (1999-2000) और चेक गणराज्य (2000-2003) में भी अपनी सेवाएं दी हैं।

श्री अरोड़ा 2005-2008 तक विदेश मंत्रालय में संयुक्त राष्ट्र (राजनीतिक) प्रभाग के प्रमुख थे, और उस क्षमता में, संयुक्त राष्ट्र में भारत की विदेश नीति से संबंधित मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला पर कार्य करने का अवसर मिला। वह 2003-05 के दौरान वित्त मंत्रालय में प्रतिनियुक्ति पर थे। उन्होंने 1991-1994 तक विदेश मंत्रालय में भारत-श्रीलंका संबंधों पर कार्य किया।

श्री अरोड़ा ने अपना बी.ए. (ऑनर्स) और एमबीए पंजाब यूनिवर्सिटी से किया है। वह नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज (एनआईएएस), बेंगलुरु के एसोसिएट और एशिया-पैसिफिक सेंटर फॉर सिक्योरिटी स्टडीज (एपीसीएसएस), होनोलुलु के फेलो हैं। वह यूनाइटेड सर्विस इंस्टीट्यूशन ऑफ इंडिया (यूएसआई) के आजीवन सदस्य हैं। आईएफएस में शामिल होने से पहले, उन्होंने कॉर्पोरेट सेक्टर और भारतीय रिजर्व बैंक में काम किया।

श्री अरोड़ा हिंदी, पंजाबी, उर्दू और अंग्रेजी भाषा में निपुण हैं। वह अरबी में कुशल है और कुछ कुछ जर्मन भी बोल लेते हैं।

श्री संजीव अरोड़ा ने श्रीमती छाया अरोड़ा से शादी की है। उनके दो बेटे हैं।