मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

अमरीका-भारत व्यापार परिषद् के इंडिया आइडियाज शिखर सम्मेलन 2021, में विदेश सचिव की टिप्पणी

अक्तूबर 06, 2021

विदेश उप मंत्री वेंडी शरमन,
श्री मार्क एस हेविट,
श्री माइरॉन ब्रिलियंट,
सुश्री निशा बिस्वाल,
श्री विजय आडवाणी,

देवियों और सज्जनों,


• मैं 2021 के इंडिया आइडियाज शिखर सम्मेलन के हिस्से के रूप में इस वर्चुअल वार्ता के आयोजन के लिए अमेरिका भारत व्यापार परिषद् (यूएसआईबीसी) को धन्यवाद देना चाहता हूं। मुझे एक अनुभवी सहयोगी और एक अच्छी मित्र के रूप में उप विदेश मंत्री शरमन के साथ जुड़कर विशेष रूप से प्रसन्नता हो रही है। वे आजकल दिल्ली और मुंबई के दौरे पर हैं।

• अपनी स्थापना के बाद से, यूएसआईबीसी ने भारत-अमेरिका द्विपक्षीय साझेदारी में विशेष रूप से हमारे आर्थिक और वाणिज्यिक संबंधों को आगे बढ़ाने में सक्रिय योगदान दिया है।

• सरकार और उद्योग के सभी स्तरों पर और लोगों से लोगों के बीच संपर्क स्थापित करने के मामले में हमारे गहरे जुड़ाव ने उभरते क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर अपने अपने दृष्टिकोण के बीच बेहतर तालमेल को विकसित करना आसान बना दिया है।

• अमरीका में मजबूत द्विदलीय समर्थन और भारत में राजनीतिक स्तर पर बड़े पैमाने पर मिले सहयोग के साथ साझा लोकतांत्रिक मूल्यों की एक ठोस नींव पर हमने एक मजबूत आर्थिक एजेंडा तैयार किया है।

• दोनों पक्षों के बहुसंख्यक हितधारकों द्वारा भारत-अमेरिका संबंधों के मामले में गहरे से जुड़ने से इसे स्वाभाविक विकास और गति मिली है

• आज, भारत-अमेरिका संबंधों का न केवल हमारे राष्ट्रों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है, बल्कि एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र और एक शांतिपूर्ण और समृद्ध विश्व सुनिश्चित करने में भी इसकी यही भूमिका रही है।

• प्रधान मंत्री मोदी की हाल की अमरीका यात्रा के दौरान वहां के राष्ट्रपति बाइडेन और उपराष्ट्रपति हैरिस के साथ उनकी पहली औपचारिक बातचीत में और क्वाड शिखर सम्मेलन के मौके पर सभी क्वाड नेताओं से व्यक्तिगत स्तर पर उनकी मुलाकात में यह स्पष्ट रूप से दिखाई दिया। प्रधानमंत्री की यह यात्रा अफगानिस्तान में उभरती क्षेत्रीय स्थिति; कोविड-19 महामारी और इसके व्यापक प्रभाव और इस साल के अंत में G20 और COP26 शिखर सम्मेलन की तैयारियों के बीच हुई है।

• प्रधान मंत्री की सफल अमेरिका यात्रा का मुख्य आकर्षण राष्ट्रपति बाइडेन के साथ उनकी बैठक थी जिसमें दोनों ने भारत-अमेरिका व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी और कई समकालीन क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों की समीक्षा की।

• इन बातचीत के दौरान, साझा लोकतांत्रिक मूल्यों को और मजबूत बनाने तथा क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों परस्पर सहयोग को बढ़ाने की तीव्र इच्छा व्यक्त की गई।

• उप विदेश मंत्री वेंडी शरमन की यात्रा ने हमें प्रधान मंत्री की अमेरिका यात्रा के परिणामों को और भविष्य की राह की समीक्षा करने का एक उत्कृष्ट अवसर दिया।

• द्विपक्षीय मोर्चे पर: रक्षा नीति समूह, आर्थिक और वित्तीय भागीदारी संवाद, व्यापार नीति मंच, आतंकवाद को रोकने के उपायों पर संवाद और 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता जो जल्द ही होगी दोनों देशों के बीच मजबूत संबंधों के संदर्भ में श्री मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडेन के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाएगा।

• दक्षिण एशिया और विशेष रूप से अफगानिस्तान में तेज गति से हो रहे विकास को देखते हुए भारत और अमेरिका अफगानिस्तान के भविष्य और दक्षिण एशिया तथा उससे आगे भी शांति और स्थिरता कैसे बनाए रखी जा सकती है इसके लेकर परस्पर घनिष्ठ रूप से जुड़े रहेंगे।

• जैसा कि आप जानते हैं, प्रधान मंत्री ने पांच अमेरिकी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ बातचीत की और भारत में निवेश के अवसरों पर चर्चा की। कारोबारी सुगमता, निवेश की सुविधा और आर्थिक सुधार के हमारे निरंतर प्रयासों को प्रधान मंत्री द्वारा दोहराया गया था।

• महामारी के बाद के समय में जब भारत और अमेरिका विकास की स्वस्थ दरों को बनाए रखना चाहते हैं - हमें अपने व्यापार और निवेश को बढ़ाने के लिए मिलकर काम करना चाहिए और लचीली तथा विविध आपूर्ति श्रृंखला, उभरती प्रौद्योगिकियों के दोहन, वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा,विकासशील और कमजोर देशों के लिए स्वच्छ और हरित प्रौद्योगिकियों और जलवायु वित्त की सुविधा प्रदान करने जैसे प्रयासों के माध्यम से त्वरित वैश्विक आर्थिक सुधार में योगदान करना चाहिए।

•हमारे प्रधान मंत्री की द्विपक्षीय बैठकों की चर्चा में शामिल समकालीन वैश्विक मुद्दों पर राष्ट्रपति बाइडेन द्वारा आयोजित क्वाड लीडर्स शिखर सम्मेलन में भी बातचीत की गई। क्वाड के चारों नेताओं ने अपने मार्च 2021 के शिखर सम्मेलन के बाद से विशेष रूप से कोविड-19 वैक्सीन साझेदारी के संबंध में हुई प्रगति की समीक्षा की।

• हाल के शिखर सम्मेलन में, प्रधान मंत्री ने भारत द्वारा टीकों के निर्यात को फिर से शुरू करने की घोषणा की। क्वाड वैक्सीन इनिशिएटिव के तहत भारत हिन्द-प्रशांत क्षेत्र को बायोलॉजिकल-ई द्वारा भारत में निर्मित जैनसेन वैक्सीन उपलब्ध कराएगा।

• जलवायु कार्रवाई के क्षेत्र में, क्वाड ने हरित शिपिंग नेटवर्क और स्वच्छ-हाइड्रोजन साझेदारी की घोषणा की। हमारे प्रधानमंत्री ने ग्लोबल ग्रीन हाइड्रोजन गठजोड़ बनाने का प्रस्ताव रखा।

• शिखर सम्मेलन में जारी 'प्रौद्योगिकी डिजाइन, विकास, शासन और उपयोग पर क्वाड सिद्धांत' क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों का मार्गदर्शन करने के लिए जिम्मेदार, खुले, उच्च-मानक नवाचार पर एक साझा समझ को दर्शाता है।

• अमेरिकी विश्वविद्यालयों में 100 स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट एसटीईएम फैलोशिप की घोषणा की गई जिसे निजी क्षेत्र की मदद से चलाया जाएगा।

• बाह्य अंतरिक्ष का शांतिपूर्ण उपयोग करने के लिए एक अंतरिक्ष सहयोग कार्यदल की स्थापना की जाएगी। एक क्वाड इंफ्रास्ट्रक्चर कोऑर्डिनेशन ग्रुप भी स्थापित किया जाएगा।

• हमारे प्रधान मंत्री ने निर्बाध आवा-गमन को सक्षम करने के लिए आम अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रोटोकॉल का भी प्रस्ताव रखा, जो वैश्विक आर्थिक सुधार का एक अनिवार्य तत्व है।

• शिखर सम्मेलन ने हमारे संयुक्त प्रयासों को मजबूत किया और सहयोग के नए क्षेत्रों की स्थापना की जो क्वाड के सकारात्मक और रचनात्मक एजेंडे को मजबूत करते हैं।

• इन आयोजनों को एक साथ रखने के लिए मैं यूएसआईबीसी को धन्यवाद देता हूं। आप ऐसे समय में भारत और अमेरिका दोनों जगह उद्योग की आकांक्षाओं को आकार देने की महती भूमिका निभा रहे हैं जब हम समय के साथ तेजी से बदलते भूराजनीतिक माहौल, नए अवसरों और नई चुनौतियो के साथ तालमेल बैठा रहे हैं।

• हमारा इरादा प्रधान मंत्री मोदी और राष्ट्रपति बाइडेन द्वारा बनाए गए दूरंदेशी एजेंडे की क्षमता का एहसास करना होगा जो हमारी द्विपक्षीय साझेदारी की व्यापक प्रकृति के साथ पूर्णत न्यायसंगत है।

• मैं उप विदेश मंत्री शरमन को धन्यवाद देता हूं और हाल ही में हुई उच्च स्तरीय वार्ताओं से मिली गति को बनाए रखते हुए उनके और उनके सहयोगियों के साथ मिलकर काम करने के प्रति आशावान हूं।

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code