यात्रायें यात्रायें

मनीला में महात्मा गांधी की अर्द्धप्रतिमा के अनावरण के दौरान राष्ट्रपति की टिप्पणी

अक्तूबर 20, 2019

1. फिलीपींस का दौरा करके मैं अत्यंत खुश हूं। आपके देश और आपके लोगों के साथ हमारे संबंध न केवल विशेष हैं, बल्कि हमारे दिल के बहुत करीब भी है। यह एक ऐसी दोस्ती है जिसे हम निभाते और संजोते हैं।

2. इस वर्ष विश्व ने शांति और अहिंसा के प्रणेता राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई। आज, मैं बहादुर जोस रिजल की भूमि फिलीपींस में उनकी अर्द्धप्रतिमा का अनावरण करके सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मैं अपने परिसर में महात्मा गांधी को सम्मान देने के लिए मिरियम कॉलेज को धन्यवाद देता हूं। महात्मा गांधी और जोस रिज़ल दोनों शांति और अहिंसा की शक्ति में विश्वास रखते थे। नई दिल्ली में आपके राष्ट्रीय नायक के नाम पर बना एवेन्यू हमें प्रेरित करता है।

3. मैं सेंटर फॉर पीस एजुकेशन में महात्मा की विरासत को मनाने के इस अवसर की ह्रदय की गहराई से सराहना करता हूं - एक ऐसा केंद्र जो शिक्षा और प्रसार के माध्यम से शांति की संस्कृति को बढ़ावा देता है। इससे अधिक उपयुक्त स्थल और नहीं हो सकता था। इसमें कोई संदेह नहीं है कि आपके द्वार से गुजरने वाले छात्रों की पीढ़ियों को उनकी विरासत से प्रेरणा मिलती रहेगी, आचरण में नैतिक होने के लिए; साथी मनुष्यों के साथ व्यवहार में दयालु और विनम्र होने के लिए; और सच्चाई के साथ अकेले खड़े रहने में, यहां तक कि सबसे अधिक कठिन समय में भी।

4. प्रसिद्ध फिलिपिनो गायक ग्रेस नोनो की आवाज में महात्मा गांधी का प्रिय भजन - वैष्णव-जन-तो-तेने कहिये- मेरे दिल को छू गया। इस वर्ष, इस भजन को 150 से अधिक देशों में गाया गया, एक ऐसे व्यक्ति के लिए श्रद्धांजलि के रूप में, जिसने पूरी मानवता को एक अविभाज्य परिवार के रूप में अपनाया। भजन एक अच्छे इंसान का वर्णन करता है, जो उन लोगों तक पहुँचता है जो दुख और तकलीफों में रहते हैं। वास्तव में, दुनिया एक बेहतर जगह होगी यदि हमारे पास एक-दूसरे के लिए ऐसी सहानुभूति हो।

5. महात्मा गांधी की यह अर्द्धप्रतिमा भारत के लोगों की ओर से आपको एक तोहफा है। लेकिन महात्मा सभी लोगों, सभी संस्कृतियों और सभी समाजों के हैं। शांति, सद्भाव और सभी के लिए सतत विकास की हमारी साझा यात्रा में वे हमारा मार्गदर्शन करते रहें।

6. मैं एक बार फिर से मिरियम कॉलेज और उन सभी को धन्यवाद देना चाहूंगा जिन्होंने इस विशेष कार्यक्रम के आयोजन में योगदान दिया है। मैं कल फिलीपींस से विदा लूँगा लेकिन आपकी गर्मजोशी और दोस्ती का खजाना हमेशा मेरे पास रहेगा।

धन्यवाद।
मनीला
20 अक्टूबर, 2019



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code