मीडिया सेंटर

कुवैत में भारतीय नागरिकों की स्थिति पर प्रश्‍नों के उत्‍तर में सरकारी प्रवक्‍ता का जवाब

अगस्त 29, 2014

प्रश्‍न : कुवैत में भारतीय नागरिकों की स्थिति क्‍या है?

मैं आप सभी को यह बताने का प्रयास करना चाहूँगा कि कुवैत में 750 हजार से अधिक भारतीय नागरिक हैं तथा भारतीयों को ऐसे समुदाय के रूप में माना जाता है जिनका बहुत ही आदर किया जाता है। आप जिस घटना का उल्‍लेख कर रहे हैं वह वहां मौजूद विशाल भारतीय समुदाय के एक छोटे से वर्ग से संबंधित है। मैं समझता हूँ कि कुछ दूसरे देशों के नागरिकों के साथ झगड़ा हुआ है और इससे ऐसी स्थिति का मार्ग प्रशस्‍त हुआ है जहां भारत के कुछ नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है। हमने तुरंत कार्रवाई की है। कुवैत में हमारे मिशन ने कुवैत के विदेश मंत्री को लिखा है तथा इस मामले में उनकी सहायता मांगी है।

हमने कांसुलर सहायता के लिए भी अनुरोध किया है तथा हम किसी भी भारतीय नागरिक को, जिसे इसकी जरूरत है, कांसुलर सहायता प्रदान करेंगे।

वहां भारतीय नागरिकों का हालचाल जानने के लिए वहां के सभी अस्‍पतालों में हमारे मिशन के लोग गए हैं तथा मैं इस बात की पुष्टि कर सकता हूँ कि किसी भी भारतीय नागरिक को कोई खतरा नहीं है। जहां तक उनकी चिकित्‍सा स्थिति का संबंध है, हमारे सभी भारतीय नागरिक खतरे से बाहर हैं।

हमने उनके साथ चर्चा करने के लिए कंपनी के प्रबंधन को बुलाया तथा हमने उनके साथ काम किया और यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया कि शिविर में जो भारतीय नागरिक रह रहे हैं उन सभी के लिए भोजन आदि की सामान्‍य व्‍यवस्‍था हो। संयोग से वे शिविर हैं तथा हम इसके माध्‍यम से काम कर रहे हैं। आज शुक्रवार होने के बावजूद, जो कुवैत में अवकाश का दिन है, हम इस पर काम करेंगे और मैं आपको आश्‍वस्‍त करना चाहता हूँ कि वहां स्थि‍त हमारा मिशन कांसुलर सहायता के साथ सभी भारतीय नागरिकों की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है और यह अनिवार्य भी है कि सभी भारतीय नागरिक स्‍थानीय कानूनों एवं विनियमों का पालन करें क्‍योंकि यह आवश्‍यक है कि संपूर्ण समुदाय के रूप में कुवैत में भारतीयों का बहुत ही आदर किया जाता है तथा हमें इसे बनाए रखने की जरूरत है।

प्रश्‍न : क्‍या ऐसे लोगों की कोई सटीक संख्‍या उपलब्‍ध है जो वहां प्रभावित हुए हैं?

मेरी समझ यह है कि जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है उनकी संख्‍या एक दर्जन या दो दर्जन के बीच है। जो लोग घायल हुए हैं तथा अस्‍पताल में भर्ती हैं उनकी संख्‍या 10 से 15 के बीच है परंतु वे सभी सुरक्षित हैं तथा उनमें से कोई भी किसी गंभीर स्थिति में नहीं है। बाकी भारतीय नागरिक अपने शिविर में हैं और इस प्रकार इस समय उनको कोई खतरा नहीं है, तथापि उन्‍हें एक चिंता है और ऐसी स्थितियों में ऐसा होना सामान्‍य है जब संकट की घड़ी में लोग चिंतित हो जाते हैं। उनकी चिंता को दूर करने के लिए हम कंपनी के प्रबंधन के साथ काम कर रहे हैं तथा हम उम्‍मीद करते हैं कि कंपनी के प्रबंधन के साथ तथा कुवैत के प्राधिकारियों के साथ मिलकर हम भारतीय मजदूरों की चिंताओं को दूर करने में समर्थ होंगे तथा मैं इस बात का भी उल्‍लेख करना चाहूँगा कि आमतौर पर कांसुलेट एवं दूतावास के अधिकारियों को मजदूरों के शिविर में जाने की अनुमति नहीं होती है इसलिए हमें इस मामले में स्‍थानीय प्राधिकारियों एवं प्रबंधन के साथ काम करना होगा तथा हम काम कर रहे हैं और मैं इस बात का आश्‍वासन देना चाहूँगा कि हमारे मिशन के सभी कर्मचारी इस पर पूरी तरह से ध्‍यान दे रहे हैं। विदेश मंत्री जो प्रवासीय भारतीय मामले मंत्री भी हैं, स्‍वयं स्थिति की जानकारी रख रही हैं तथा जरूरत पड़ने पर निर्देश दे रही हैं।

प्रश्‍न : कोई विशेष क्षेत्र तथा विशिष्‍ट क्षेत्र जहां के ये लोग हैं?

सभी भारतीय हैं तथा हम इस बात का भेद नहीं करते हैं कि कौन भारत के किस भाग से हैं। भारतीय के रूप में हम उनकी मदद करेंगे तथा उनका समर्थन करेंगे परंतु हमारा उनसे निवेदन है कि वे स्‍थानीय कानूनों एवं विनियमों का पालन करें क्‍योंकि सभी भारतीयों के लिए उस प्रतिष्‍ठा को बनाए रखने का सुनिश्‍चय करना जरूरी है जिसे हम सभी ने लंबे समय से अर्जित किया है।

नई दिल्‍ली
29 अगस्‍त, 2014
Write a Comment एक टिप्पणी लिखें
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * पुष्टि संख्या